वाराणसी : लग्न पर कोरोना का साया, कैंसिल हो सकते हैं हजारों शादियों के बुकिंग

Indrajeet kumar, Last updated: Mon, 17th Jan 2022, 4:43 PM IST
  • कोरोना के बढ़ते संक्रमण का प्रभाव शादी-ब्याह पर भी देखने को मिल रहा है. कोरोना गाइडलाइन और इससे जुड़ी सख्ती का प्रभाव टेंट, सजावट, ट्रेवल, कैटरर, होटल, डीजे और बैंड पार्टी से जुड़े व्यवसाय पर भी देखा जा रहा है. वाराणसी के कारोबारियों का कहना है कि करीब 2 हजार लग्न कैंसिल हो सकते हैं.
प्रतीकात्मक फोटो

वाराणसी. कोरोना के बढ़ते संक्रमण का प्रभाव शादी-ब्याह पर भी देखने को मिल रहा है. नाइट कर्फ्यू और कोरोना गाइडलाईन जारी होने के लिए कई लोग शादी की बुकिंग कैंसिल करवा कर गर्मी में लग्न करने की प्लानिंग कर रहे हैं. जबकि कुछ लोग शादी ब्याह के कार्यक्रमों को दिन में ही करने का मन बना रहे हैं. ऐसे में टेंट, सजावट, ट्रेवल, कैटरर, होटल, डीजे और बैंड पार्टी से जुड़े कारोबारियों में काफी निराशा देखी जा रही है. प्रशासन की तरफ से जारी कोरोना गाइडलाइन के बाद शादियों में केवल 100 लोगों की उपस्थिति अनिवार्य कर दी गई है. इसका सीधा असर इससे जुड़े व्यवसायों पर देखा जा रहा है.

2 हजार शादियों के कैंसिल होने के अनुमान

नाइट कर्फ्यू के वजह से भी शादियों पर असर पड़ा है जिन परिवारों में सगे संबंधियों की तादाद ज्यादा है, वह अपनी शादी हो की तारीख को अप्रैल-मई तक टाल रहे हैं. जबकि कुछ लोग सीमित संख्या में ही शादी की रस्म को पूरा कर रहे हैं. वाराणसी के टेंट व्यवसायियों का कहना है कि 20 फरवरी तक अंतिम लग्न की तारीख है इसके बाद अब लग्न अप्रैल में ही शुरू होगा ऐसे में फरवरी में होने वाली लगभग 2 हजार शादियों के कैंसिल होने का अनुमान है. वाराणसी में 100 से ज्यादा नए कोरोना के नए मामले मिले हैं. जिले में संक्रमण दर 10 प्रतिशत से ऊपर है वही कोरोना के कुल सक्रिय मामलों की संख्या साढ़े चार हजार है.

वाराणसी: SBI में शॉर्ट सर्किट से लगी आग, जल गए कम्प्यूटर व सारे रिकॉर्ड्स

इवेंट प्लानरों का भी धंधा फीका

व्यवसायियों का कहना है कि कैटरर, बैंक्वेट हॉल, होटल, लॉज और ट्रेवल्स गाड़ियां अच्छी खासी तादाद में बुक की गई थी. लेकिन अब कोरोना गाइडलाइन जारी होने के बाद संख्या कम हो जाने के कारण पूरा प्लान खराब हो गया है. बारात के साथ साथ इवेंट प्लानर वालों का भी धंधा फीका पड़ गया है और कई ऑर्डर कैंसिल हो गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें