BHU में संस्कृति पर आधारित कोर्स की शुरुआत, एमए के साथ-साथ शोध भी होगा

Smart News Team, Last updated: Tue, 16th Mar 2021, 1:07 PM IST
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में काशी के मेलों पर आधारित कोर्स में एमए की डिग्री हासिल करने के साथ-साथ छात्र शोध भी कर सकेंगे. इसे BHU के सामाजिक विज्ञान विषय के तहत शुरू किया जाएगा.
काशी के मेलों पर आधारित कोर्स की शुरुआत

वाराणसी: काशी अपनी धार्मिक, सांस्कृतिक और पौराणिक महत्व को संजोए हुए है. यही वजह है कि लोग दूर-दूर से यहां आते हैं. काशी की इसी विशेषता को ध्यान में रखते हुए इसे एक विषय के तौर पर अब छात्रों को पढ़ाया जाएगा. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में इस विषय में एमए की डिग्री हासिल करने के साथ-साथ छात्र यहां शोध भी कर सकेंगे. इसे BHU के सामाजिक विज्ञान विषय के तहत शुरू किया जाएगा.

सामाजिक विज्ञान फैकल्टी के डीन कौशल किशोर मिश्रा बताते हैं कि पिछले 10 साल में जैसे यहां विकास हुआ है, देसी और विदेशी सैलानियों का जिस तेजी से काशी की ओर रुख बढ़ा है, ऐसे में जरूरी है कि हम उन्हें यहां की संस्कृति से रूबरू करवाएं. बस इसी सोच के साथ एक कोर्स तैयार किया गया और उसेमंजूरी भी दी जा चुकी है.

वाराणसी में शिक्षिका के साथ धोखाधड़ी, 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज

उधर, इस कोर्स को लेकर विश्वविद्यालय परिसर में एक अलग ही माहौल है. कोर्स के शुरू होने से यहां के छात्रों में खासा उत्साह नज़र आ रहा है. काशी के धर्म और मेलों पर आधारित कोर्स का छात्र गर्मजोशी से स्वागत कर रहे हैं.

अज्ञात तत्वों ने हाईवे पर होली जला की अराजकता फैलाने की कोशिश, पुलिस हुई अलर्ट

छात्रों का कहना है कि ये खासतौर पर उन विदेशी छात्रों के लिए है जो यहां आकर धर्म और संस्कृति के बारे में जानना चाहते हैं. इतना ही नहीं वे मेलों को समझने के लिए किताबें भी तलाशते हैं. BHU की इस सराहनीय पहल से वे ज्ञानार्जन कर सकेंगे और अपने देश जाकर उसे बता सकेंगे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें