3 साल से बंद वाराणसी का दरेखू ऑक्सीजन प्लांट फिर शुरू, 450 सिलेंडर रीफिल क्षमता

Smart News Team, Last updated: 05/05/2021 08:29 AM IST
वाराणसी के रोहनिया के दरेखू इलाके में बंद पड़े ऑक्सीजन प्लांट को मंगलवार को शुरू कर दिया गया. जिसका निरीक्षण डीएम कौशल राज शर्मा ने किया. ऑक्सीजन प्लांट को पिछले सप्ताह ही आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रशासन ने कब्जा किया था. अब इस ऑक्सीजन प्लांट से रोज 450 ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिल किए जाएंगे.
3 साल से बंद ऑक्सीजन प्लांट फिर से शुरू. (प्रतीकात्मक फोटो)

वाराणसी : कोरोना की दूसरे लहर ने वाराणसी शहर में विकराल रूप धारण किया हुआ है. शहर में लगातार संक्रमित बढ़ते जा रहे हैं. वहीं उनके इलाज के लिए ऑक्सीजन की मांग बढ़ती ही जा रही है. इसी के तहत मंगलवार को रोहनिया के दरेखू इलाके में बंद पड़े ऑक्सीजन प्लांट को दोबारा शुरू कर दिया गया है. दरेखू इलाके का यह ऑक्सीजन प्लांट बुधवार से सिलेंडर की रिफिल करना शुरू कर देगा. इस ऑक्सीजन पावर प्लांट की क्षमता 450 ऑक्सीजन सिलेंडर रीफिलिंग करने की है.

दरेखू ऑक्सीजन प्लांट का दौरा वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने भी किया. जिलाधिकारी ने इस दौरान प्लांट की सारी व्यवस्था को भी देखा. जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कहा कि दरेखू के कामरूप ऑक्सीजन प्लांट को पिछले सप्ताह में ही आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्रशासन ने अपने कब्जे में लिया था. जो पिछले 3 सालों से अधिक समय तक बंद रहा है. इस प्लांट को 2 दिन में चलाने के लिए टेक्निकल लोगों से और कई फर्म से प्रस्ताव मांगे गए थे. 

कोरोना मरीजों के लिए बाबा विश्वनाथ का खुला खजाना, पहुंचाई दवाएं और ऑक्सीजन

जिसमें कुल 5 प्रस्ताव आए थे. प्रशासन ने बंद पड़े प्लांट को चलाने का जिम्मा अन्नपूर्णा इंडस्ट्रियल गैस को जारी कर दिया. फिलहाल पूरे ऑक्सीजन की सप्लाई में चंदौली जिला किच्छा प्लांट और मिर्जापुर इलाके का एक प्लांट सहित रोहनिया वाराणसी का दरेखू ऑक्सीजन प्लांट ऑक्सीजन रिफिलिंग करेगा. इस एक और ऑक्सीजन प्लांट के बढ़ जाने से वाराणसी शहर के कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज़ में ऑक्सीजन की मांग को पूरा किया जाएगा.

वाराणसी: ओटीएस में दूसरी किस्त का भुगतान नहीं करने वाले लोगों पर होगी कार्रवाई

BHU कर्मियों पर आरोप, कोरोना संंक्रमित की मौत के बाद चोरी हो रहे कीमती सामान

डायग्नोस्टिक सेंटर पर वैन को एंबुलेंस बनाकर चलाने का आरोप, नोटिस की तैयारी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें