बहु ने BHU प्रोफेसर, पूर्व BJP MLC समेत पूरे परिवार पर किया दहेज उत्पीड़न का केस

Smart News Team, Last updated: 10/12/2020 07:33 PM IST
  • वाराणसी बीएचयू प्रोफेसर, उनकी पत्नी पूर्व एमएलसी और बेटों पर बहु ने दहेज़ उत्पीड़न के साथ कई अन्य धाराओं में लंका थाने में केस दर्ज कराया.
बहु ने BHU प्रोफेसर, पूर्व भाजपा MLC समेत दोनों बेटों पर दर्ज कराया दहेज उत्पीड़न का केस

बीएचयू के प्रोफेसर डॉ अध्या प्रसाद पांडेय और उनके परिवार पर लंका थाने में दहेज़ उत्पीड़न, हिंसा और धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया. यह मुकदमा उनकी बड़े बेटे डॉ शिवेश की पत्नी नेहा की तहरीर पर लंका पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया. नेहा पांडेय ने बीएचयू के प्रोफेसर डॉ. आद्या प्रसाद पांडेय, उनकी पत्नी भाजपा की पूर्व एमएलसी डॉ. वीणा पांडेय, दोनों बेटों डॉ. शिवेश और डॉ. निलेश पांडेय पर दहेज़ उत्पीड़न का आरोप लगाया. प्रो डॉ.आद्या प्रसाद पांडेय बीएचयू के अर्थशात्र विभाग के प्रोफेसर और मणिपुर विश्वविद्यालय के कुलपति रह चुके है.

प्रो. पांडेय की बहु नेहा ने पुलिस को बताया कि डॉ. शिवेश से फरवरी 2018 में उसकी शादी हुई थी. जब शादी के बाद ससुराल गई तो भाजपा की पूर्व एमएलसी डॉ. वीणा पांडेय उनकी सास ने बड़े बेटे के लिए 25 लाख की कार और छोटे बेटे के लिए पल्सर की मांग किया. जबकि दहेज में नेहा के पिता ने शादी के समय दहेज़ में 10 लाख रुपया और एक बाइक दिया था. उन्होंने ने आगे बताया कि ससुराल वालों को मनमुताबिक दहेज़ नहीं मिलने पर उसे परेशान किया जाने लगा और पैसे नहीं देने पर तलाक की धमकी दी जाने लगी थी.

स्कूल अफेयर की फोटो पति को भेज शादी तोड़ी, लिव-इन में रखा, फिर कर ली दूसरी शादी

पीड़िता नेहा ने आगे बताया कि उसे अक्सर घर के बाहर कर दिया जाता था. पहली बार जब वह गर्भवती हुई थी तो घर में धक्का देने से बच्चा ख़राब हो गया था. गर्भ के दूसरी बार भी ससुराल वालों के लापरवाही के चलते वह भी खराब हो गया था. तीसरी बार जब गर्भ धारण हुआ तो वह अपने मायके चली गई. उस दौरान सास ने फोन करके कहा था कि अगर लड़का नहीं हुआ तो घर नहीं आना. जब वह अपने बच्चे को लेकर ससुराल पहुंची तो फिर भी उसे दहेज़ के लिए प्रताड़ित किया जाता रहा, साथ ही उसे तलाक देने की भी धमकी दी जाती रही.

वाराणसी के युवक की झारखंड एक्सीडेंट में मौत, दो दिन पहले सगाई, जनवरी में थी शादी

नेहा पांडेय ने ससुराल वालों से परेशान होकर दोबारा अपने मेक चली गई. जब ससुराल वालों की तरफ से बेटे के परवरिश को लेकर कोई हाल खबर नहीं लिया गया तो वह 7 दिसम्बर को पति के आवास पर पहुंची. जब ससुराल वालों ने उसे घर में नहीं घुसने नहीं दिया तो नेहा ने बीएचयू परिसर स्थित अरविंदो कॉलोनी में प्रोफेसर के आवास में प्रवेश के लिए धरने पर बैठ गई. वह वहां पर पूरी रात बैठी रही. इस दौरान ससुराल वालों ने उसका पूरा सामान घर के बाहर फेकवा दिया. उधर लंका इंस्पेक्टर महेश पांडेय ने बताया कि पीड़िता के तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है.

वाराणसी में कोहरे का कहर, कम विजिविलिटी से विमानों की आवाजाही पर असर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें