वाराणसी में दुर्गा पूजा की धूम, सिद्धिदात्रि मंदिर में भक्तों ने लगाई हाजिरी

ABHINAV AZAD, Last updated: Thu, 14th Oct 2021, 12:04 PM IST
  • शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर वाराणसी के सिद्धिदात्रि मंदिर में भक्तों ने पूजा-अर्चना की. इस दौरान मंगला आरती के उपरांत पट खुलते ही मंदिर परिसर का वातावरण माता दुर्गा के जयघोष से गूंज उठा.
(प्रतीकात्मक फोटो)

वाराणसी. देश भर में दुर्गा पूजा का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है. शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर माता रानी के भक्तों ने उनके नवम स्वरूप का दर्शन पूजन किया. इस बीच मातारानी की आराधना के लिए गोलघर के निकट सिद्धमाता गली स्थित सिद्धिदात्रि मंदिर में भक्तों ने हाजिरी लगाई. हाथों में नारियल, हुड़हुल की माला, लाल चुनरी, बताश आदि लेकर भक्तों के आने का क्रम ब्रह्म मुहूर्त में ही आरंभ हो गया था.

शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर माता रानी के भक्तों ने गोलघर के निकट सिद्धमाता गली स्थित सिद्धिदात्रि मंदिर में देवी की विशेष पूजा अर्चना की. इस दौरान मंगला आरती के उपरांत पट खुलते ही मंदिर परिक्षेत्र का वातावरण माता दुर्गा के जयघोष से गूंज उठा. ऐसी मान्यताएं हैं कि देवी सहज ही प्रसन्न होकर भक्तों को सर्व सिद्धि प्रदान करती हैं, इसलिए शास्त्रों में देवी को सिद्धिदात्रि नाम से पुकारा जाता है. साथ ही ऐसा माना जाता है कि शिव महापुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण और देवी पुराण के अनुसार भगवान शिव को भी समस्त सिद्धियां माता सिद्धिदात्रि की कृपा से ही प्राप्त हुई थीं.

वाराणसी पुलिस ने छापा मारकर दो क्विंटल अवैध पटाखा बरामद किया, एक गिरफ्तार

वहीं शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर नवरात्र के अंतिम दिन दुर्गा कुंड स्थित दुर्गामंदिर में भक्तों की भारी भीड़ रही. इस दौरान मंदिर खुलने से पहले ही भक्तों की लंबी कतार देखी जा सकती थी. भक्तों की यह कतार दिन बढ़ने के साथ ही तेजी से बढ़ती जा रही है. दरअसल, शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर नवरात्र के अंतिम दिन वाराणसी के मंदिरों में भक्तों की लंबी कतार देखी जा रही है. साथ ही इस दौरान सुरक्षा-व्यवस्था के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें