राहत: DRDO ने BHU में बनाया 750 बेड का अस्थाई अस्पताल,जानिए क्या होंगी सुविधाएं

Smart News Team, Last updated: 08/05/2021 02:54 PM IST
  • DRDO ने पंडित कोविड अस्पताल के नाम से एक और अस्थाई अस्पताल तैयार कर लिया है. इस अस्पताल में सेना के डॉक्टरों के अलावा BHU के सीनियर डॉक्टर कोविड मरीजों का इलाज करेंगे.
राहत: DRDO ने BHU में बनाया 750 बेड का अस्थाई अस्पताल,जानिए क्या होंगी सुविधाएं

वाराणसी। पूरे देश में चल रहे कोरोना संकट के दौरान DRDO ने एक और अस्थाई अस्पताल तैयार कर लिया है जो कि कोविड मरीजों और उनके तीमारदारों के लिए बड़ी राहत की खबर है. इस अस्पताल की शुरुआत वाराणसी के BHU के एम्फीथिएटर मैदान में की जाएगी. यह अस्पताल पद्मभूषण पंडित राजन मिश्र को समर्पित किया गया है.

गौरतलब है कि बीते शुक्रवार को कार्य पूरा होने के बाद अस्पताल के बाहर पंडित कोविड अस्पताल का बोर्ड लगाया गया. बोर्ड पर एक तरफ राजन मिश्र और दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो लगाई गई है. आपको बता दें, पंडित राजन मिश्र को कोरोना संक्रमित होने के बाद हार्ट अटैक आने से निधन हुआ था. वह दिल्ली के प्राइवेट अस्पताल में भर्ती थे.

Ramzan 2021: यूपी के बड़े शहरों में 8 मई का रोजा समय, इफ्तार टाइम टेबल

पीएम मोदी वर्चुअल तरीके से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से DRDO द्वारा तैयार किए गए इस कोविड अस्पताल का उद्घाटन करेंगे. इस समारोह में सीएम योगी के शामिल होने की उम्मीद है. कल से अस्पताल में 2 दिन का ड्राई रन शुरू हो रहा है. जिसकी सक्सेस के बाद अस्पतालों में मरीजों का इलाज शुरू कर दिया जाएगा. इसकी तैयारी के लिए अधिकारी जुटे हुए हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वाराणसी जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि 11 मई से अस्पताल की शुरुआत हो जाएगी जिससे मरीजों को काफी राहत मिलेगी. इस अस्पताल में सेना के डॉक्टरों के अलावा BHU के सीनियर डॉक्टरों की देख रेख में मरीजों का इलाज किया जाएगा.

BHU ट्रामा सेंटर के इंचार्ज SK सिंह ने दिया इस्तीफा, सौरभ सिंह ने संभाला पद

750 बेड वाला यह अस्पताल कुल 16 दिन में बनकर तैयार हुआ है. इसमें से 500 बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध है और 250 बेड ICU की भी सुविधा दी जा रही है. अस्पताल में एक जोन 250 बेड का होगा, जहां वेंटिलेटर से लेकर सभी जीवनरक्षक इंतजाम किए गए हैं. अन्य दो जोन में ऑक्सीजन के बेड लगाए गए हैं जहां पर एचएफएनसी और बाईपेप का इंतजाम इमरजेंसी के लिए रहेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें