लोटा-भंटा मेले पर पड़ा कोरोना का असर, काफी कम संख्या में रामेश्वर पहुचे श्रद्धालु

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 08:07 PM IST
वाराणसी के रामेश्वर महादेव मंदिर पर लगने वाले लोटा-भंटा मेले में इस साल कोरोना महामारी के चलते श्रद्धालु काफी कम संख्या में पहुचे. इस मेले में श्रद्धालु स्नान करके रामेश्वर महादेव का दर्शन करते है और मंदिर के पास ही बाटी चोखा बनाकर महादेव को भोग लगाते है.
(तस्वीर: लोटा-भंटा मेला)

वाराणसी: जिले के रामेश्वर महादेव मंदिर के पास लगने वाले लोटा-भंटा मेले पर भी कोरोना महामारी का असर देखने को मिला. कोरोना से बचने के चलते मेले में स्नानार्थियों और मेलार्थियों की संख्या काफी कम रही. इस मेले में पुलिस प्रशासन की तरफ से सभी सुरक्षा के इंतेजाम किए गए थे. जिसके लिए पुलिस बल सहित अन्य सुरक्षा बलों को भी मेले में तैनात किया गया था. पिछले साल की अपेक्षा इस साल मेले में दुकाने भी कम लगी हुई दिखाई दी. रविवार के सुबह 5 बजे से ही स्नानार्थी स्नान करके मंदिर में रामेश्वर महादेव के दर्शन कर बाटी-चोखा के भोग लगाने शुरू कर दिए थे.

इस बार कोरोना के चलते भीड़ काफी कम रही. जिसके चलते मेला शांति पूर्ण तरीके से सम्पन्न हुआ. अब यह आशंका लगाई जा रही है कि रविवार को मेला पड़ने के कारण सोमवार को दोबारा मेला लगेगा. मेले में पहुचे श्रद्धालुओं ने सोमवार को दोबारा मेला लगने का कारण यह बताया कि रविवार को भंटा नहीं भुना जाता है. 

होमगार्ड दिवस पर CM योगी ने किया ऐलान-दिवंगत के परिवार को सरकार देगी 5 लाख रुपए

जिसके कारण सोमवार को दोबारा मेले का आयोजन किया जाएगा. मेले में अभी तक कोई उपद्रव या अप्रिय घटना नहीं हुई है. इस मेले में एसपी ग्रामीण मार्तण्ड प्रताप सिंह के साथ साथ कई विभाग के अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे.

(तस्वीर: लोटा-भंटा मेला)

25 साल पहले UP से गुम बुजुर्ग राजस्थान में मिले, सोशल मीडिया की मदद से घर पहुंचे

लोटा-भंटा मेले में तैनात अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए रामेश्वर चौकी कज तरफ से बाटी-चोखा और खीर की प्रसाद के रूप में व्यवस्था किया गया था. इस मेले को सम्पन्न कराने में रामेश्वर ग्राम पंचायत समेत अन्य संगठनों का भी सहयोग मिला.

(तस्वीर: लोटा-भंटा मेला)

वाराणसीः नौका विहार करने गए लोगों की नाव गंगा में पलटी, नौ लोगों को बचाया

लखनऊ की ऑइकोनिक ओलंपिक ने 1.35 करोड़ रुपये में खरीदी टीम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें