वाराणसी में यूपी चुनाव की स्टैटिक ड्यूटी में लगे पांच पुलिस कर्मी भ्रष्टाचार में निलंबित

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 11th Feb 2022, 11:39 PM IST
  • चुनाव आयोग ने वाराणसी में चुनाव की स्टैटिक ड्यूटी में लगे पांच पुलिस कर्मी को भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी के आरोप में निलंबित कर दिया है. इसके साथ ही प्रदेश में पलाइंग स्क्वायड एवं स्टेटिक सर्विलांस टीमों को तत्काल सेन्सटाइज करने का आदेश दिया है.
वाराणसी में यूपी चुनाव की स्टैटिक ड्यूटी में लगे पांच पुलिस कर्मी भ्रष्टाचार में निलंबित

वाराणसी. वाराणसी में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में स्टेटिक्स की ड्यूटी में लगे हुए पांच पुलिस कर्मियों को भ्रष्टाचार के आरोप में अनुशानात्मक कार्यवाही करते हुए निलबित कर दिया है. इसके साथ ही इनके ऊपर रिश्वतखोरी का भी आरोप लगाया है. इन्हे भारत निर्वाचन आयोग ने निलबित किया है. चुनाव आयोग ने निर्वाचन-2022 के तहत वाराणसी में तैनात स्टेटिक सर्विलांस टीम (एसएसटी) के पाच कार्मिकों को तत्काल प्रभाव से निर्वाचन कार्यों से हटाने के साथ इन कार्मिकों को निलंबित करते हुए अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश संबंधित विभाग को दिए है.

साथ ही चुनाव आयोग ने पुलिस महानिदेशक उ०प्र० को निर्देश दिए गए हैं कि प्रदेश में पलाइंग स्क्वायड एवं स्टेटिक सर्विलांस टीमों को तत्काल सेन्सटाइज किया जाए, ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो सके. चुनाव आयोग ने बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग उत्तर प्रदेश के बाल विकास परियोजना अधिकारी, बड़गाव, मुकेश सिंह कुशवाहा, पुलिस विभाग, उ0प्र0 के उप निरीक्षक विद्यार्थी सिंह, हेड कॉन्स्टेबल जटाशंकर पाण्डेय, कॉन्स्टेबल अमित सिंह यादव एवं संजय कुमार के विरुद्ध कार्यवाही के लिए आयोग ने निर्देशित किया है.

मुख्तार अंसारी बांदा जेल से यूपी चुनाव के लिए भरेंगे पर्चा, अखिलेश के सहयोगी राजभर ने टिकट दिया

भदोही के निवासी वीर चौरसिया की शिकायत पर वाराणसी की थाना जसा में तैनात एसएसटी के कार्मिकों पर यह कार्यवाही की गयी है. शिकायत के अनुसार पेशे से व्यापारी वीर चौरसिया विगत 08 फरवरी, 2022 को अपने वाहन से मदोही-वाराणसी मार्ग से आठ लाख पचास हजार रुपये लेकर वाराणसी आ रहे थे.  जिन्हें स्टेटिक सर्विलास टीम जसा कतवारूपुर (नोरखरा), थाना-जसा के पास रोककर एसएसटी के उक्त कार्मिकों ने उक्त व्यापारी के पास से प्राप्त आठ लाख पचास हजार रुपये में से चार लाख पचास हजार रुपये अपने पास बिना किसी लिखा-पढ़ी के रख लिया. जिसकी कोई रसीद व्यापारी को नहीं दी गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें