वाराणसी में कोहरे से परेशान किसान, बढ़ा फसल खराब होने का खतरा

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 27th Dec 2021, 4:20 PM IST
  • वाराणसी में ठंड बढ़ने के साथ कोहरा भी जमकर पड़ रहा है. ये कोहरा ठंड बढ़ाने के साथ फसलों को बर्बाद कर सकता है जिसको लेकर शहर के किसान परेशान है. किसानों का कहना है कि यदि ये कोहरा गिरना बंद न हुआ तो सारी फसल बर्बाद हो जाएगी. अभी सभी फसल तैयार है ऐसे वक्त में कोहरे की मार से किसान परेशान है.
वाराणसी में कोहरे से परेशान किसान, बढ़ा फसल खराब होने का खतरा

वाराणसी, यूपी में दिसंबर के जाने के साथ ठंड भी बढ़ती जा रही है. सुबह हल्की धूप से जहां कुछ राहत मिल रही है, वहीं रात में कोहरे से तापमान काफी नीचे चला जा रहा है. जिससे वाराणसी के किसानों की परेशानी बढ़ रही है. किसानों को डर है कि ऐसे ही कोहरा गिरता रहा तो फसलों को काफी नुकसान हो जाएगा क्योंकि फसल तैयार है ऐसे वक्त में कोहरे की मार फसलों को बर्बाद कर सकती है.

लगातार 5 दिन गिरा कोहरा तो फसल हो जाएगी बर्बाद

किसानों ने बताया कि इस वक्त जब सारी सब्जी की फसल तैयार हो गई है. जिसमें कुछ दिन बाकी है. ऐसे में कोहरे से फसलों को काफी नुकसान हो रहा है. यदि अगले 5 दिन तक इस तरह ही कोहरा गिरता रहा तो फसलों को काफी नुकसान हो जाएगा और वो बर्बाद हो जाएगी.

काशी विश्वनाथ मंदिर के अर्चक ने सूतक लगे होने के बावजूद PM मोदी से करा दी पूजा, जांच होगी

हजारों बीघा में खड़ी फसल, हो सकता नुकसान

किसानों ने बताया कि इस वक्त शहर के रमना, बनपुरा, टिकरी औऱ तारापुर के तराई इलाके में बड़े पैमाने में किसानों ने सब्जी की खेती की है, ऐसे में रविवार से कोहरा गिरना शुरू हो गया है, जिससे फसलों को काफी नुकसान हो सकता है. अभी पालक, मटर, सेम, टमाटर, गाजर, मूली और गोभी समेत कई फसलों की हजारों बीघा में खेती की गई है.

नीट में फर्जीवाड़ा सॉल्वर के जरिये पास कराने वाले एक और आरोपी गिरफ्तार

कोहरे की कई फसल बर्बाद तो कई रह जाएंगी छोटी

फसलों पर कोहरे का प्रभाव बताते हुए किसानों ने बताया कि इस वक्त सभी फसल पूरी तरह से तैयार हैं. गोभी, मटर, सेम, पालक और धनिया की फसल तैया है. यदि कोहरा गिरना न रूका तो ये फसल खराब हो जाएगी. वहीं, कोहरे के प्रभाव से गाजर, आलू समेत कई फसलों का साइज छोटा रह जाएगा. कोहरे से फसलों को बचाने के लिए फसलों पर लगातार सिंचाई कर पत्तियों पर पानी का छिड़काव किया जा रहा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें