ऑक्सीजन एक्सप्रेस की पांचवीं खेप वाराणसी पहुंची, दोपहर 3 बजे तक पहुंचेगी लखनऊ

Smart News Team, Last updated: Thu, 29th Apr 2021, 1:16 PM IST
  • ऑक्सीजन एक्स्प्रेस की पांचवीं खेप भी सुबह 9:30 बजे उत्तर प्रदेश के वाराणसी पहुंच चुकी है. यह रैक गुरुवार दोपहर 3 बजे तक लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर पहुंचेगी.
ऑक्सीजन एक्सप्रेस की पांचवीं खेप वाराणसी पहुंची, दोपहर 3 बजे तक पहुंचेगी लखनऊ

वाराणसी। ऑक्सीजन की कमी से लगातार जूझ रहे उत्तर प्रदेश और राजधानी लखनऊ के लिए राहत की खबर यह है कि लगातार एक के बाद एक ऑक्सीजन एक्स्प्रेस और उसमें आती जीवन रक्षक वायु से लोगों की जिंदगियां बचाई जा रही है, इसी क्रम में बीते बुधवार सुबह रवाना हुई ऑक्सीजन एक्स्प्रेस की पांचवीं खेप भी सुबह 9:30 बजे उत्तर प्रदेश के वाराणसी पहुंच चुकी है. बीते बुधवार को सुबह तकरीबन 8:30 बजे बोकारो से लखनऊ के लिए रवाना हुई पांचवीं ऑक्सीजन एक्स्प्रेस वाराणसी पहुंच चुकी है और अगले कुछ ही घंटों में लखनऊ पहुंच जाएगी.

बोकारो से आ रही इस ऑक्सीजन एक्स्प्रेस रैक में तीन टैंकर आए हैं. यह एक्सप्रेस 17 से 18 घंटों का सफर तय करते हुए कुछ ही घंटों में लखनऊ के चार बाग स्टेशन पहुंचेगी. डीआरएम इन ऑक्सीजन एक्सप्रेस की पल पल की जानकारी लेते रहते हैं. उत्तर प्रदेश शासन इस पांचवीं रैक के बाद ऑक्सीजन एक्स्प्रेस की छठी खेप भी भेजने पर विचार कर रहा है. यह रैक गुरुवार दोपहर 3 बजे तक लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर पहुंचेगी. यहां से ऑक्सीजन टैंकर शासन के निर्देश पर अन्य जिलों के लिए रवाना किया जाएगा.

योगी सरकार ने दिया कोवैक्सीन और कोविशील्ड के 50-50 लाख डोज का ऑर्डर

इन विशेष ऑक्सीजन एक्सप्रेस की मदद से देश की सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में भी भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन की पूर्ति करने की कोशिश की जा रही है. सूचना के अनुसार उत्तर प्रदेश को बोकारो स्टील के अलावा टाटा स्टील से भी गैस् की आपूर्ति होने की जा रही है. बीते 12 अप्रैल से 27 अप्रैल के बीच अकेले उत्तर प्रदेश को 800 मैट्रिक टन आक्सीजन की आपूर्ति हो चुकी है. रेल के साथ ही रोड मार्ग से भी ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है. इसके अलावा बिहार में भी अब तक 450 टन तथा झारखंड को 350 टन मेडिकल आक्सीजन की सप्लाई बोकारो स्टील प्लांट द्वारा की जा चुकी है.

यूपी की योगी सरकार ने ऑक्सीजन सप्लाई को उठाया बड़ा कदम, बनाया गया कंट्रोल रूम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें