मकान में लगी आग, पड़ोसी के छत पर कूद परिवार ने बचाई जान, देर से पहुंची फायर ब्रिगेट

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Wed, 22nd Dec 2021, 3:25 PM IST
  • वाराणसी के भेलूपुर थाना क्षेत्र में एक दो मंजिला घर में बुधवार को आग लग गई. जिसके बाद घरवालों ने पड़ोसियों के छत पर कूदकर अपनी जान बचाई. आग की सूचना मिलने के एक घंटे के बाद फायर ब्रिगेट की टीम पहुंची. तब तक घर का सारा समाना जलकर खाक हो गया था.
मकान में लगी आग, पड़ोसी के छत पर कूद परिवार ने बचाई जान, देर से पहुंची फायर ब्रिगेट

वाराणसी. वाराणसी के भेलूपुर थाना क्षेत्र के खोजवा के किरहिया चौराहे से बुधवार को एक घर में अचानक आग लग गई. अगर का धुए से सोते हुए परिजनों का जब दम घुटा तो उनकी आंख खुली. जिसके बाद घर से निकलने के लिए सीढ़ियों की तरफ भागे, लेकिन सीढ़ियों पर आग की लपटों से घिर गए. जिसके बाद घर के लोग पड़ोसियों की मदद से बगल के छत पर कूदकर अपनी जान बचाई. घर में लगे भीषण आग में 15 लाख जेवरात 13 हजार नकद जलकर खाक हो गया. वहीं घर में आग लगने की सुचना मिलने के बाद फायर बगरीगेट की गाड़ियां एक घंटे के बाद पहुंची. तबतक पड़ोसियों ने ही आग पर काबू पा लिया था.

किरहिया निवासी लाल चंद्र विश्वकर्मा के दो बेटे हैं. दोनों के माकन अगल बगल है. लालचंद्र अपने छोटे बेटे जयप्रकाश के साथ रहते है. जयप्रकाश घर के निचे मोटरसाइकल मैकेनिक की दुकान चलाता है. वहीं दूसरे ताल पर वह पत्नी संगीता पिता और बेटी मिठी के साथ रहता है. जयप्रकाश मगलवार की शाम को काम खत्म करके सोने के लिए चला गया. इस बीच भोर 3:30 पर दुकान में शार्ट सर्किट लगने से आग लग गई. आग दूसरे तल पर फैल गई. जिसके धुए से दम घुटने से जयप्रकाश और उनका परिवार जागा. जिसके बाद बड़ी मुश्किल से लालचन्द्र के बड़े बेटे दीपक के घर से होकर किसी तरह नीचे उतरे.

BHU के जनरल सर्जरी की ओटी में शॉर्ट सर्किट से लगी आग, कोई हताहत नहीं

आग लगने पर पड़ोसियों ने इसकी सूचना फायर ब्रिगेट को दिया, लेकिन फायर ब्रिगेट की टीम एक घंटा बाद पहुंची. तब तक पड़ोसियों ने बगल के कुआँ से पानी निकालकर आग पर काबू पा लिया था. फायर ब्रिगेट की टीम के देर से पहुंचने पर लोगों में नाराजगी भी देखने को मिली. फायर ब्रिगेट की दो गाड़ियों से 2:30 घंटे की मस्कत के बाद आग को पूरी तरह से बुझा लिया गया. वहीं फायर ब्रिगेट की टीम पहुंचने पर जयप्रकाश खुद पाइप थमकर घर में घुस गए.

आग लगने पर घर में रखा सभी समान जलने के बावजूद लालचंद और उनके बेटे बहु एक बात कह रहे थे कि भइया पड़ोसी भगवान बनकर बचा लिये. वर्ना सभी जलकर मर जाते. गृहस्थी जलकर खाक हो गई उसकी तकलीफ नहीं है हम लोग जिन्दा बच गए. वहीं घर के निचे दुकान में खड़ी बाइक में आग पकड़ने से पेट्रोल और मोबिल दोनों मिलते ही आग बेकाबू हो गई. जिसके बाद पुरे घर में आग फैल गई.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें