वाराणसी: गंगा की धारा का प्रवाह मुड़ा, पर्यटक और श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी

Smart News Team, Last updated: Mon, 18th Jan 2021, 1:57 PM IST
  • वाराणसी में गंगा की धारा प्रवाह बदल गई है. यह धारका प्रवाह के बदल जाने से दशाश्वमेघ से मणिकर्णिका घाटों की बीच का सम्पर्क टूट गया है. वहीं इसका कारण विश्वनाथ मंदिर के कॉरिडोर के लिए घाट पर बन रही सीढ़ी के चलते हुआ है.
वाराणसी में गंगा की धारा प्रवाह मुड़ा

वाराणसी. वाराणसी में गंगा की सहारा बदल गई है. गंगा के मणिकर्णिका घाट से लेकर विश्नात कॉरिडोर के तालिता के बीच का प्रवाह दूर हो गया है. इसके चलते दशाश्वमेघ से मणिकर्णिका घाटों के बीच का सम्पर्क भी टूट गया है. जिसके चलते मणिकर्णिका घाट पर अनीतिम संस्कार से पहले होने वाले गंगाजल से शवों का प्रक्षालन नहीं हो पा रहा है. ये पूरी समस्या लोगों को गंगा किनारे बन रहे कॉरिडोर के चलते हो रही है. जिसके लिए सीढिया तैयार की जा रही है और उसके लिए कंक्रीट की दिवार खड़ी गई है.

बनारस में विश्वनाथ कॉरिडोर के लिए गनगा किनारे ललिता घाट से मणिकर्णिका घाट तक सीढ़ी का निर्माण कार्य चल रहा है. जिसके लिए घाट के पास पानी जाने से रोकने के लिए करीब 800 मिटेर लम्बाई और 200 मीटर चौड़ाई में मिट्टी पाट दिया गया है. जिसके बाद वहां पर करीब पांच मीटर गहराई तक आरसीसी की दीवाल खड़ी किया जा रहा है, जिसके जरिए घाट पर सीढ़ी का निर्माण किया जाएगा. जिसके चलते ही गंगा की धारा का प्रवाह बदल गया है.

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020: नए सिलेबस पर UP उच्च शिक्षा परिषद ने मांगे सुझाव

आपको बता दे कि दशाश्वमेध घाट के किनारे कि सीढ़ियों के जरिए बहुत से लोग मणिकर्णिका घाट पर जाते है, लेकिन कॉरिडोर कि सीढ़ियों के निर्माण के करण अब लोगों को नव का सहारा लेना पड़ रहा है. वहीं अब घाट के किनारे लगाए गए मिट्टियों के ऊपर से पैदल चलकर जाने के लिए भी मनाही हो गई है. जिसके चलते घाट घूमने आए पर्यटक और श्रद्धालुओं को वापस लौटना पड़ रहा है.

प्राइवेट एजेंसी को सौंपा ड्राइविंग लाइसेंस बनाने का काम, चक्कर काट रहे लोग

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें