वाराणसी की घनी आबादी में वन विभाग तैयार कर रहा मिनी जंगल, मिलेगी शुद्ध हवा

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 03:33 PM IST
वाराणसी में वन विभाग घनी आबादी में मिनी जंगल तैयार कर रहा है. इसके लिए वह मियावाकी पद्धति से स्कूल और कॉलेज के मैदानों में पौधे लगा रहा है. इस ऑक्सीजन बैंक से न केवल वाराणसी में प्रदूषण कम होगा बल्कि लोगों को शुद्ध हवा भी मिलेगी
राजकीय बालिका इंटर कॉलेज मलदहिया में वन विभाग द्वारा लगाए गए पौधे

वाराणसी. वन विभाग मियावाकी पद्धति से शहर की घनी आबादी वाले क्षेत्र में ऑक्सीजन बैंक बनाने के लिए मिनी जंगल तैयार कर रहा है. ऐसे लोगों को शुद्ध हवा मिलेगी और साथ ही साथ प्रदूषण का स्तर भी कम होगा.

जानकारी के अनुसार पहले चरण में मलदहिया के राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में पौधारोपण का काम पूरा कर लिया गया है. अब कॉलेज परिसर के करीब 1 बीघे से कम जमीन पर लगभग 8 हज़ार पौधे लगाए गए हैं. विभाग द्वारा इन पौधों की जिम्मेदारी कॉलेज को सौंपी जाएगी.

पेट्रोल डीजल आज 5 दिसंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर में तेल का दाम बढ़ा

दूसरे चरण में रेवड़ी तालाब के अजय नारायण इंटर कॉलेज में वृक्षारोपण का काम शुरू होगा. इसके अलावा रामनगर पीएसी कैंप, कंटोंमेंट और सीएचएस की भी जमीन पर भी पौधे लगाने का काम शुरू होगा. मिनी जंगल लगाने के लिए रामनगर पीएसी में अनुमति भी मिल गई है. कार्य की रूपरेखा तैयार की जा रही है और संभावना है कि जनवरी में वहां काम शुरू कर दिया जाएगा.

यूपी: 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को CM योगी आदित्यनाथ ने दिए नियुक्ति पत्र

आपको बता दें कि इन मिनी जंगलों में नींबू, आंवला, आम, महुआ, चंदन, सागौन, नीम, अमरुद, जामुन और शीशम के पौधे लगाए गए हैं. एक मिनी जंगल लगाने में लगभग 7 लाख रुपये का खर्चा आ रहा है. इन जंगलों में 3 किस्म के पौधे लगाए जा रहे हैं. सबसे पहले यहां घास लगाई जाती है. घास के 10 फीट तक भरने के बाद कम हाइट वाले पौधे लगाए जाते हैं. जो पौधे 30 फीट तक भर सकते हैं. इसके बाद ऐसे पौधे लगाए जा रहे हैं जो 40 फीट से अधिक पढ़ते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें