वाराणसी में पूर्व प्रधान को गोलियों से भूना, मौत, हिस्ट्रीशीटर था मृतक

Smart News Team, Last updated: Sun, 11th Apr 2021, 12:28 AM IST
  • पप्पू यादव इसबार पंचायत चुनाव में प्रधानी के लिए अपनी किस्मत आजमा रहें थे. पप्पू रोज की तरह शनिवार को भी ग्राम सभा मे अपना चुनाव प्रचार कर रहे थे तभी अचानक किसी नंबर से फोन आया और......
वाराणसी में पूर्व प्रधान को गोलियों से भूना, मौत, हिस्ट्रीशीटर था मृतक .( सांकेतिक फोटो )

वाराणसी: बड़ागाँव थाना क्षेत्र के इंद्रपुर गाँव का पूरा इलाका तब दहशत में आ गया था जब वहां गोलियां तड़तड़ाई लोगों ने घटनास्थल पर जाकर देखा तो पूर्व प्रधान पप्पू यादव को किसी ने गोली मार दी थी. घटना शनिवार रात लगभग नौ की है. पप्पू यादव इसबार पंचायत चुनाव में प्रधानी के लिए अपनी किस्मत आजमा रहें थे. पप्पू रोज की तरह शनिवार को भी ग्राम सभा मे अपना चुनाव प्रचार कर रहे थे तभी अचानक किसी नंबर से फोन आया और उन्हें घर के पास ही स्थित एक बगीचे के पास बुलाया गया. 

जैसे ही अपनी बाइक से वहां पहुंचे हमलावर ने उनपर निशाना साधकर गोली चाला दी. गोली की आवाज सुनते ही ग्रामीणों ने तुरंत घटना की सूचना पुलिस को दे दी आनन फानन में पुलिस व ग्रामीणों ने घायल पूर्व प्रधान को नजदीकी हॉस्पिटल ले जाया गया. जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. वर्तमान समय में मृतक पप्पु यादव की पत्नी ममता यादव गाँव की प्रधान हैं. इस बार गांव में प्रधानी का चुनाव पप्पू यादव खुद लड़ रहे थे, उन्होंने नामंकन भी कर दिया था.

वाराणसी: कोरोना का हाहाकार, काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश पर रोक

पुलिस ने बताया कि पप्पू ने प्रधानी के साथ ही प्रोपर्टी डीलिंग के भी काम शुरू किया था और कुछ दिन पूर्व ही उसने एक विवादित सम्पत्ति खरीदी थी जिसे खरीदने के बाद से ही वह थोड़ा परेशान रहता था वही बड़ागाँव पुलिस ने बताया कि मृतक बड़ागाँव थाने का हिस्ट्रीशीटर भी है और जिस मनबढ पर परिजन हत्या का आरोप लगा रहे है वो भी थाने का हिस्ट्रीशीटर है.

योगी सरकार का आदेश- यूपी के इन जिलों में सिर्फ 50 % लोग जाएं ऑफिस, बाकी WFH

मृतक व उसकी पत्नी लगातार 2005 से है इन्द्रपुर गाँव की प्रधान

मृतक पप्पू यादव व उसकी पत्नी ममता यादव 2005 से लगातार प्रधान थी जिसमे 2005 में पहली बार पप्पू यादव प्रधान पद के लिये चुना गया था उसके बाद से लगातार उसकी दो बार उसकी पत्नी ममता यादव ग्राम सभा की प्रधान थी और इस बार वह स्वयं चुनाव लड़ रहा था जिससे आस पास के लोग इससे रंजिश रखते थे और इस बार भी वह अच्छी स्थिति में था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें