वाराणसी: बोर्डिंग पास और चेक-इन के बाद Indigo ने मजदूरों को नहीं करने दी यात्रा

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Dec 2020, 10:15 AM IST
  • एयरलाइन के कर्मचारियों ने सारे यात्रियों की शारीरिक जांच और उनके सामान का एक्सरे करने के बाद उन्हें बोर्डिंग पास दे दिया. लेकीन कुछ ही देर में एयरलाइन के कर्मचारियों द्वारा उन्हें अवगत कराया गया कि आप समय से नहीं पहुंचे हैं. इसलिए आपको फ्लाइट में प्रवेश नहीं करने दिया जायेगा
वाराणसी में बोर्डिंग पास और लजेग चेक-इन के बाद भी मजदूरों नही करने दिया यात्रा

वाराणसी: मंगलवार को लालबहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा वाराणसी पर वाराणसी से चेन्नई इंडिगो की फ्लाइट 6E514 के 13 यात्रियों ने एयरलाइंस पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया है. मिली जानकारी के अनुसार रिंकू निवासी चंदौली ने बताया कि मंगलवार को 13 लोगों के समुह टिकट फ्लाइट सांख्य 6E514 था. रिंकू के मुताबिक वो लोग 12 बजे एयरपोर्ट पहुंच गए थे. एयरलाइन के कर्मचारियों ने सारे यात्रियों की शारीरिक जांच और उनके सामान का एक्सरे करने के बाद उन्हें बोर्डिंग पास दे दिया. 

लेकीन कुछ ही देर में एयरलाइन के कर्मचारियों द्वारा उन्हें अवगत कराया गया कि आप समय से नहीं पहुंचे हैं. इसलिए आपको फ्लाइट में प्रवेश नहीं करने दिया जायेगा. उसके बाद उनसे बोर्डिंग पास वापस लेकर उन्हें टर्मिनल से बाहर निकाल दिया गया. और उनका समान भी लौटा दिया गया. बाद में एयरलाइन कर्मचारियों द्वारा सूचित किया गया कि, आपको अगले दिन चेन्नई की फ्लाइट से भेजा जायेगा, लेकीन इसके लिए आपको 1800 रुपए एयरलाइन को देने होंगे. यात्रियों ने कहा कि ये हमारे साथ ठगी हुई है. 

सारनाथ पर्यटन स्थल के रेलिंग में उतरा करंट, आधा दर्जन को लगा बिजली का झटका

और आधी रात को कड़कड़ाती ठंड में हमें टर्मिनल से बाहर निकाल दिया गया. उन्होने बताया कि वो लोग वैश्विक महामारी कोरोना के कारण वापस अपने शहर आ गए थे. लेकीन अभी स्थिती कुछ सामान्य हुई है, तो वह वापस चेन्नई जाने के लिए बड़ी मुश्किल से टिकट का पैसा जुटाए थे. हम मजदूर वर्ग है हमने जैसे तैसे किराए का पैसा जुटाए थे लेकिन एयरलाइन कि लापरवाही के चलते उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. वो कह रहे हैं कि उनके धोखा है और उन्हें न्याय मिले.

वाराणसी: अमेजन पर फर्स्ट प्राइज जीतने के नाम पर MBBS छात्रा बनी ठगी का शिकार

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें