पैसेंजर ट्रेनें अब एक्सप्रेस की तरह दौड़ रहीं, पूर्वोतर रेलवे ने बदला शेड्यूल

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 06:17 PM IST
  • पहले चरण में वाराणसी से गोरखपुर के लिए चलने वाली दो पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाया जाएगा. इसके बाद वर्तमान में कैंट रेलवे स्टेशन से चल रहीं दो जोड़ी ट्रेनों को भी यहां से चलाने का प्रस्ताव है. यह जानकारी पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने दी.
वाराणसी से गोरखपुर के बीच दो पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाया जाएगा (प्रतिकात्मक फोटो)

वाराणसी- रेलवे अपनी कई पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस में बदल रहा है. इसके तहत पहले चरण में वाराणसी से गोरखपुर के लिए चलने वाली दो पैसेंजर ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाकर चलाया जाएगा. इसके बाद वर्तमान में कैंट रेलवे स्टेशन से चल रहीं दो जोड़ी ट्रेनों को भी यहां से चलाने का प्रस्ताव है. यह जानकारी पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने दी.

बताते चलें कि वाराणसी सिटी से गोरखपुर के बीच दो जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चलाई जा रही थीं. लेकिन लॉकडाउन के बाद से इनका परिचालन बंद है. गोरखपुर-वाराणसी-गोरखपुर (55119/55120 और 55149/55150) पैसेंजर ट्रेनें सारनाथ, कादीपुर, रजवारी, औड़िहार जं., माहपुर, सादात, हमरपुर, जखनिया, दुल्लहपुर, नैकडीह, पिपरी डीह, पनियरा, मऊ, इंदारा, चकरा रोड, किरिहड़ापुर, र्गोंबदपुर डुगली, बेल्थरा रोड, तुर्तीपार, लार रोड, सलेमपुर, पीकल, भटनी, नुनखर, अहिल्यापुर, देवरिया, बैतालपुर, गौरी बाजार, चौरीचौरा, सरदारनगर, कुसुम्ही, गोरखपुर कैंट होकर गोरखपुर जंक्शन तक जाती हैं. एक्सप्रेस ट्रेनों के रूप में चलाये जाने के बाद कुछ हॉल्ट की कटौती की जा सकती है. महाप्रबंधक ने रेलवे के निजीकरण का खंडन किया. इसके बाद वह औड़िहार रूट पर निरीक्षण के लिए निकल गये.

हॉस्टल-लाइब्रेरी खोलने की मांग पर धरना दे रहे बीएचयू छात्र दो गुट में बंटे

इस बीच नार्थ-ईस्ट रेलवे मजदूर यूनियन ने सिटी स्टेशन पर महाप्रबंधक से मुलाकात कर 10 सूत्री मांग-पत्र सौंपा. मंडल अध्यक्ष एनर्बी सिंह ने कहा कि 55 साल आयु या 30 साल तक की सेवा के बाद रिटायरमेंट को रद्द किया जाना चाहिए. मंडल अस्पताल में फिजिशियन की तैनाती, ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए पाइपलाइन की व्यवस्था की मांग की. कर्मचारियों के लिए यात्रा भत्ता, शिक्षण शुल्क भत्ता, माइलेज, रात्रि व अन्य भत्ता लागू कराने, रिक्त पदों पर भर्ती, आवासों की हालत सुधरवाने, टीटीई को भी र्रंनग स्टाफ की तरह रेस्ट रूम में भोजन व सुविधाएं आदि समेत अन्य मांगें उठाई.

बनारस में होगा धर्मार्थ कार्य विभाग का निदेशालय, कैबिनेट की मिली मंजूरी

पेरिशेबल कार्गो सेंटर की स्थापना के बाद फल व सब्जी निर्यातक हब बन रहा वाराणसी

सारनाथ रिंग रोड हादसे में घायल के भाई ने अज्ञात ड्राइवर के खिलाफ दर्ज कराया केस

31 मार्च तक अगर PAN-Aadhar लिंक नहीं किया तो, हो सकता है 10 हजार का जुर्माना

यूपी सरकार ने कंपनियों को GST पंजीकरण के लिए दिया 3 महीने का समय

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें