Indian Railways: लखनऊ- वाराणसी- पटना मार्ग पर बनेगा बुलेट ट्रेन गलियारा

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 12:15 PM IST
  • भारतीय रेलवे आगरा-कानपुर-लखनऊ-वाराणसी समेत प्रस्तावित आठ बुलेट ट्रेन गलियारा बनाने की योजना बना रहा है. यह काम राष्ट्रीय रेल योजना के तहत होगा.
(प्रतीकात्मक फोटो)

वाराणसी. भारतीय रेलवे वर्तमान में नियोजित आठ गलियारों के अलावा राष्ट्रीय रेल योजना में चार और हाई-स्पीड रेल गलियारे जोड़ने की योजना बना रहा है. दरअसल, प्रस्तावित आठ गलियारे में मुंबई- सूरत- वडोदरा- अहमदाबाद, दिल्ली- नोएडा- आगरा- कानपुर-लखनऊ- वाराणसी, दिल्ली- जयपुर-उदयपुर-अहमदाबाद, मुंबई- नासिक-नागपुर, मुंबई- पुणे-हैदराबाद शामिल है. वहीं इसके अलावा चेन्नई- बेंगलुरु- मैसूर, दिल्ली- चंडीगढ़-लुधियाना-जालंधर-अमृतसर, वाराणसी- पटना-हावड़ा शामिल है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2022 में हैदराबाद-बेंगलुरु, 855 किलोमीटर लंबी नागपुर-वाराणसी, 850 किलोमीटर लंबी पटना-गुवाहाटी और 190 किलोमीटर लंबी अमृतसर-पठानकोट-जम्मू हाई स्पीड रेल गलियारा प्रस्तावित किए जाने की संभावना है. यह काम राष्ट्रीय रेल योजना के तहत होगा. हैदराबाद-बेंगलुरु गलियारा 618 किलोमीटर लंबी होगी. गौरतलब है कि वर्तमान में महज मुंबई-अहमदाबाद हाई-स्पीड रेल परियोजना निर्माणाधीन है.

UP में पहले अवैध कब्जे के होते थे टूर्नामेंट, अब योगी सरकार खेल रही जेल-जेलः PM मोदी

बताते चलें कि इस एमएएचएसआर परियोजना भारत में निष्पादन के तहत 508 किमी लंबी पहली हाई-स्पीड रेल (एचएसआर) नेटवर्क है. 508 किमी में से 352 किमी गुजरात (348 किमी), दादरा व नगर हवेली (चार किमी) और शेष 156 किमी महाराष्ट्र में स्थित है. गौरतलब है कि गुजरात और दादरा व नगर हवेली में निर्माण कार्य प्रगति पर है. गुजरात और दादरा व नगर हवेली में क्रमशः 98 प्रतिशत और 100 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण किया गया. जबकि महाराष्ट्र में अब तक 40 फीसदी भूमि अधिग्रहण हो चुका है. जबकि इसके अलावा स्वीकृत दिल्ली-वाराणसी, दिल्ली-अहमदाबाद, मुंबई-नागपुर, दिल्ली-अमृतसर, मुंबई-हैदराबाद और चेन्नई-मैसूर कॉरिडोर पर विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने का काम किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें