काशी नई दिल्ली हाई स्पीड रेलवेपरियोजना निर्माण में बढे कदम, शुरू हुआ सर्वे कार्य

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 2:54 PM IST
  • संगम नगरी के साथी तीन धामों को जोड़ने के लिए प्रस्तावित काशी नई दिल्ली हाई स्पीड रेल कॉरिडोर परियोजना के निर्माण को लेकर कदम आगे बढ़ा दिए गए हैं.
काशी नई दिल्ली हाई स्पीड रेलवेपरियोजना निर्माण में बढे कदम, शुरू हुआ सर्वे कार्य

वाराणसी. संगम नगरी के साथी तीन धामों को जोड़ने के लिए प्रस्तावित काशी नई दिल्ली हाई स्पीड रेल कॉरिडोर परियोजना के निर्माण को लेकर कदम आगे बढ़ा दिए गए हैं. जमीनी सत्यापन के बाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर कारपोरेशन ने लाइट डिटेक्शन एंड रेजिंग सर्वे यानी लिडार तकनीकी से कॉरिडोर के लिए चिन्हित किए गए मार्ग का हवाई सर्वेक्षण कार्य शुरू कर दिया है.

बता दें कि देश के ही नहीं बल्कि विदेशियों की काशी तक पहुंच बनाने के लिए भारतीय रेलवे ने संगम नगरी प्रयागराज के साथ ही अयोध्या मथुरा धामों के अलावा लखनऊ इटावा आगरा भदोही जनपदों एवं नोएडा के जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को जोड़ते हुए हाई स्पीड बुलेट ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है. इस क्रम में भारतीय रेलवे ने काशी से नई दिल्ली तक हाई स्पीड रेल कॉरीडोर परियोजना को जमीनी धरातल पर उतारा है. परियोजना के तहत अब तक जमीनी सत्यापन कर लिया गया है. 

वहीं इस परियोजना को मूर्त रूप देने के लिए रेलवे ने देश में दूसरी बार लिडार तकनीक का इस्तेमाल करते हुए रविवार से हवाई सर्वेक्षण कार्य शुरू कर दिया है. उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा से पहले दिन इमेजरी सेंसर से लैस हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरकर जमीनी सर्वे करते हुए सर्वेक्षण से संबंधित कई महत्वपूर्ण आंकड़ों को कैप्चर किया. नेशनल हाई स्पीड रेल कारपोरेशन लिमिटेड की ओर से शुरू किए गए लिडार तकनीक से किया जा रहा सर्वेक्षण कार्य 10 से 12 माह तक चलेगा. सर्वे कार्य के दौरान हाई स्पीड रेलवे लाइन के दोनों ओर 300 मीटर की रेंज में आने वाले नदी नालों बंबा पोलियो भवन खेत खलियानों और हरे-भरे मैदानों आदि का सर्वेक्षण किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें