केजरी में 20, 50 व 100 रूपये के स्टांप पेपर का स्टॉक खत्म, भटक रहे जरूरतमंद

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Feb 2021, 7:23 PM IST
  • काशी के कोषागार में  20, 50 वह 100 के स्टांप का स्टॉक खत्म हो गया है. शेष जो स्टांप का भंडार है वह भी सप्ताह भर में खत्म हो जाने की संभावना जताई जा रही है. जरूरतमंद भटक रहे हैं. चेहरा देखकर अब स्टांप पेपरों की बिक्री की जा रही है.
वाराणसी (फाइल तस्वीर)

वाराणसी : वाराणसी के जिला कोषागार मैं स्टांप पेपरों की यह मारामारी इसलिए है कि कोविड-19 के संक्रमण के कारण संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान बंद हुई स्टांप पेपरों की प्रिंटिंग मशीन अब तक चालू नहीं हो सकी है. सरकार और जिला प्रशासन का ध्यान भी इस ओर समय से नहीं जा सका है. मौजूदा समय में जिला कोषागार वाराणसी में 20 50 और 100 के स्टांप पेपर का भंडार पूरी तरह से खाली हो चुका है. अन्य धनराशि के जो स्टांप पेपर जिला कोषागार से बिक्री के लिए जा रहे हैं उनका भी सीमित स्टॉक है. कोषागार के काम कर्मचारियों की माने तो शेष स्टांप पेपरों का स्टॉक भी मार्च माह तक समाप्त हो सकता है. 

लेकिन स्टांप के लिए भटक रहे जरूरतमंदों की शिकायत है कि कोषागार से अधिकृत वेंडरों के पास आखिरकार उक्त धनराशि के स्टांप पेपर कहां से आ रहे हैं. इन लोगों की यह भी शिकायत है कि मौजूदा समय में जिला कोषागार से चेहरा देखकर स्टांप पेपरों की बिक्री की जा रही है. अपरिचित चेहरों को कर्मचारी वापस लौट आ रहे हैं. स्टांप पेपरों पर लगने वाले कमीशन को लेकर भी जरूरतमंदों ने जिला कोषागार में शिकायत दे रखी है लेकिन इस शिकायत पर अब तक कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई है. 

वाराणसी : आर्थिक बजट में कस्टम ड्यूटी बढ़ने से संकट में आया काशी वस्त्र उद्योग

यहां तक की जिला कोषागार द्वारा सही सूचना भी नहीं दी जा रही है. कर्मचारियों द्वारा स्टांप पेपर से अधिक स्टांप पेपर की खरीद पर जोर दिया जा रहा है. जरूरतमंदों ने कोषागार के अधिकारियों से इसके लिए अलग से काउंटर बनाए जाने की मांग रखी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें