उत्तर प्रदेश में बदले स्कूलों के लुक, बस और ट्रेन के डिब्बों जैसी बनीं इमारतें

Smart News Team, Last updated: 03/02/2021 01:10 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के विद्यालयों की साफ-सफाई के साथ स्कूलों के भवन को नया लुक दिया है. नए लुक के अनुसार स्कूल की इमारत में जाने पर ऐसा लगेगा कि स्कूल बस में बैठे हैं. वाराणसी के स्कूल इन दिनों आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं.
यूपी में स्कूलों के बदले लुक ट्रेन कोच और बसों का दिया रूप.

वाराणसी. बेसिक शिक्षा परिषद के प्राइमरी और जूनियर स्कूलों के शिक्षक और प्रधानाध्यापक अपने-अपने स्कूलों को चमकाने, सजाने और संवारने में लगे हुए हैं. इसी होड़ के चलते सेवापुरी ब्लाक के कंपोजिट विद्यालय उपरवार के शिक्षकों ने भी अपने स्कूल को संवारने का भरपूर प्रयास किया. उन्होंने इस स्कूल की साफ-सफाई के साथ साथ स्कूल के भवन को नया लुक दिया है. नए लुक के अनुसार स्कूल की इमारत में जाने पर ऐसा लगेगा कि स्कूल बस में बैठे हैं. आजकल यह स्कूल क्षेत्र में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है.

उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में स्कूल के भवन को स्कूली बस का लुक देकर पेंट कराया गया है. भवन पर एक तरफ सर्व शिक्षा अभियान डिपो लिखा है तो दूसरी ओर सर्व शिक्षा अभियान का 'लोगो' भी बनाया गया है. इमारत पर अंग्रेजी वर्णमाला के अक्षर भी आकर्षक ढंग से पेंट किए गए हैं. सामने की तरफ बस की ही तरह जहां गंतव्य स्थल का नाम लिखा होता है, उसी तरह कम्पोजिट विद्यालय उपरवार सेवापुरी लिखवाया गया है. नंबर प्लेट पर विद्यालय का कोड नंबर भी अंकित है. 

UP में गंदगी फैलाने वालों की अब खैर नहीं, सरकार उठाने जा रही बड़ा कदम, जानें

स्कूल के प्रधानाध्यापक लोकेश मिश्रा और उनकी टीम के प्रयासों की हर जगह तारीफ हो रही है. बीएसए राकेश सिंह और खंड शिक्षाधिकारियों ने कुछ दिन पहले ही इस स्कूल में आए थे. बीएसए ने बताया कि स्कूल का परिवेश सुधारने और आकर्षक बनाने के लिए प्रधानाध्यापक और उनकी टीम की सराहना की गई है. उन्हें और उनकी टीम को शीघ्र बीएसए कार्यालय में उत्कृष्टता प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया जाएगा. 

विकास के नाम पर सर्वाधिक खर्च करने वाली ग्राम पंचायतों में ऑडिट टीम ने डाला डेरा

यही नहीं, इस स्कूल के अलावा अन्य स्कूलों ने भी अपने स्कूल भवनों में कई तरह के प्रयोग किए हैं. एक स्कूल में सभी कक्षाओं को ट्रेन के डिब्बे जैसा लुक दिया गया है. शिक्षकों का कहना है कि हाल के महीनों में स्कूल भवनों का परिवेश सुधारने के लिए काफी काम हुआ है. एक समय था जब सरकारी स्कूलों की इमारतें सिर्फ सफेद रंग की हुए करती थी जिसके बीच में पीली और हरी पट्टी बना दी जाती थी. 

गलत दिशा में आ रहे वाहनों के कारण लगा जाम, पुलिस ने काटा डेढ़ लाख रुपये का चालान 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें