वाराणसी : अक्टूबर माह तक बदल जाएगा मां विंध्यवासिनी मंदिर परिसर का स्वरूप

Smart News Team, Last updated: Tue, 2nd Feb 2021, 2:01 PM IST
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने साल 2020 में मां विंध्यावासिनी कॉरिडोर परियोजना शुरू की थी. 331 करोड़ रुपए के बजट से शुरू की इस योजना को पूरा करने को लेकर शासन की ओर से निर्देश जारी किए गए हैं.
मां विंध्यावासिनी मंदिर

वाराणसी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट विंध्यवासिनी कार्य योजना का कार्य अक्टूबर माह तक हर हाल में पूरा करने के लिए शासन से निर्देश दिए गए हैं. 331 करोड़ की इस परियोजना के तहत मां विंध्यवासिनी मंदिर परिसर से लेकर परिक्रमा तक का स्वरूप बदलने काम तेजी से पूरा किया जा रहा है. बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साल 2020 में मां विंध्यवासिनी कॉरिडोर परियोजना जमीनी धरातल पर उतारी थी. इसके लिए शासन की ओर से 331 करोड़ रुपए का बजट भी निर्धारित किया गया है. 

परियोजना के तहत मंदिर की ओर जाने वाला कोतवाली रोड का चौड़ीकरण तो किया ही जाएगा इसके अलावा परिक्रमा पथ का निर्माण अंडर ग्राउंड पार्किंग, हेलीपैड का निर्माण, वीआईपी गेस्ट हाउस का निर्माण कराए जाने के साथ ही मंदिर का सौंदर्यीकरण अभी कराया जाना परियोजना में शामिल है. बरतर तिराहा के निकट स्थित काशी नरेश की 4 बीघा 10 बिस्वा भूमि पर तीन हेलीपैड व एक वीआईपी गेस्ट हाउस के अलावा अंडर ग्राउंड पार्किंग स्थल बनाए जाने की तैयारी की जा रही है. भूस्वामी से भूमि अधिग्रहण करने के लिए नायब तहसीलदार नटवर सिंह की वार्ता हो चुकी है. भूमि के एवज में भूस्वामी को पांच करोड़ रुपए का मुआवजा 20 आसन की ओर से प्रदान किया जाएगा.

एक फरवरी से फिर बहाल होगी ई- कैटरिंग सेवा, रेलवे बोर्ड ने दी स्वीकृति

परियोजना के तहत मंदिर को जाने वाला कोतवाली रोड का भी चौड़ीकरण किया जाएगा. इसके लिए 35 फीट भूमि अधिग्रहण करने के लिए जमीन की पैमाइश की जा रही है. मां विंध्यवासिनी कॉरिडोर परियोजना के तहत कराए जा रहे कार्यों का जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने सोमवार को अपर जिलाधिकारी यूपी सिंह के साथ निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने कार्रवाई संस्था को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए. मां विंध्यवासिनी कारीगर परियोजना के संबंध में मिर्जापुर के सिटी मजिस्ट्रेट विनय कुमार सिंह ने बताया कि विंध्यवासिनी मंदिर के परिक्रमा पथ के लिए भूमि का बैनामा हो चुका है, ध्वस्तीकरण का कार्य शुरू करा दिया गया है. बताया कि शासन की ओर से परियोजना निर्माण के लिए प्रथम चरण में 20 करोड़ रुपए की धनराशि जारी की गई थी. इस धनराशि से भूस्वामी को मुआवजा देने में खर्च किया गया है. दूसरी किस्त के रूप में बजट की मांग शासन से कर दी गई है. जल्द ही शासन से बजट प्राप्त हो जाएगा. उन्होंने बताया कि अक्टूबर माह तक हर हाल में इस परियोजना को पूरा कर लिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें