काशी विद्यापीठ में प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षा नहीं, 3 लाख छात्र हुए प्रमोट

Smart News Team, Last updated: 06/09/2020 03:28 PM IST
  • महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने शानिवार को प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को बिना परीक्षा के प्रोन्नत करने का आदेश दिया है. इससे तीन लाख विधार्थी बिना परीक्षा के अगली कक्षा में चले जाएंगे.
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ

वाराणसी. महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने शनिवार को स्नातक में पढ़ रहे प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को अगली कक्षा में प्रोन्नत करने का आदेश दिया गया है. इससे प्रथम वर्ष का विधार्थी तृतीय सेमेस्टर में और द्वितीय वर्ष के छात्र को पांचवें सेमेस्टर में प्रोन्नत किया गया है. इस निर्देश से करीब तीन लाख छात्र अगली कक्षा में बगैर परीक्षा के जाएंगे. 

इस कदम से करीब करीब तीन लाख छात्र प्रोन्नत होंगे. काशी विद्यापीठ से संबंधित कॉलेजों पर पर भी यह निर्देश लागू होगा। प्रथम वर्ष के जो भी विधार्थी अगली कक्षा में प्रोन्नत किए जा रहे हैं, उन्हें अगले साल द्वितीय वर्ष की परीक्षा में शामिल होना होगा और इस दौरान अंक का औसत के आधार पर प्रथम वर्ष में नंबर दिए जाएंगे. अगर वह इस दौरान कोई छात्र किसी विषय में फेल हो जाता है, तो उसे दोबारा परीक्षा देनी होगी.

वाराणसी: BHU में भर्ती मरीज की मौत पर परिजनों का हंगामा, लापरवाही का लगाया आरोप

वह परीक्षार्थी जिनकी लॉकडाउन से पहले हुई परीक्षा में बैक‌ है उन्हें भी प्रोन्नत कर दिया गया है. जो परीक्षार्थी फेल हैं, उन्हें फेल घोषित किया गया है. अगर इन पाठ्यक्रमों और विषयों में कोई परीक्षार्थी शामिल नहीं हो पाया तो उन्हें विश्वविद्यालय एक और अवसर देगा.

वाराणसी में बेंगलुरु से हवाई जहाज का सफर कर आ रहा है धनिया, आसमान में दाम

परीक्षा नियंत्रक और कुलसचिव डां.साहब लाल मौर्य की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि अगर कोई परीक्षार्थी 2020 की परीक्षा परिणाम से संतुष्ट नहीं हैं, वह आगामी वर्ष में बैक पेपर के पेपर में शामिल होकर अंक सुधार कर सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें