वाराणसी: संपत्ति के लालच में गोद ली बेटी और दामाद ने की थी मां की हत्या, अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Fri, 16th Apr 2021, 5:04 PM IST
  • 23 मार्च को शिवदासपुर लालबत्ती क्षेत्र निवासी लालता देवी की उनकी गोद ली हुई पुत्री एवं दामाद ने संपत्ति के लालच में हत्या कर दी थी. जिसके बाद से दोनों आरोपी फरार चल रहे थे. लेकिन शुक्रवार को मंडुवाडीह पुलिस ने दोनों मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.
वाराणसी: संपत्ति के लालच में गोद ली बेटी और दामाद ने की थी मां की हत्या, अरेस्ट

वाराणसी. 23 मार्च को मंडुवाडीह थाना क्षेत्र के शिवदासपुर लालबत्ती क्षेत्र में एक 48 वर्षीय महिला लालता देवी की हत्या हुई थी. इस वारदात में शामिल मुख्य आरोपी दत्तक पुत्री हिना एवं उसके पति राहुल को मंडुवाडीह पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि इस हत्या में सहयोग करने वाले दो अन्य लोगों को पुलिस ने बीते मंगलवार को ही गिरफ्तार कर लिया था. जिन्होंने बताया था कि संपत्ति के लालच में मृतका की दत्तक पुत्री एवं दामाद के साथ मिलकर इन लोगों ने हत्या की साजिश रची थी.

मंडुवाडीह थानाप्रभारी परशुराम त्रिपाठी ने बताया कि लालता देवी अपनी गोद ली हुई बेटी हिना एवं दामाद राहुल के साथ शिवदासपुर स्थित रेड लाइट एरिया में रहती थी. पुलिस के अनुसार लालता देवी से उनकी दत्तक पुत्री एवं दामाद की किसी बात पर बहस हो गई थी. जिसके बाद हत्यारोपियों ने लालता देवी का गला दबाकर एवं किसी वजनी वस्तु से सिर पर मारकर उनकी हत्या कर दी थी. जिसमें दो अन्य लोग संजय नगर, पहड़िया थाना लालपुर निवासी विक्की जायसवाल एवं अकथा थाना लालपुर निवासी अंकित कुमार सिंह ने भी हत्यारोपियों का सहयोग किया था.

वाराणसी: संपत्ति बनी लालता देवी की हत्या की वजह, मुख्य आरोपी के दो सहयोगी अरेस्ट

थाना प्रभारी के अनुसार हत्या के बाद दोनों मुख्य आरोपी राहुल उर्फ रंजन त्रिपाठी एवं दत्तक पुत्री हिना उर्फ प्रिया त्रिपाठी अपना मोबाइल स्विच ऑफ करके शहर छोड़कर नेपाल भाग निकले थे. पुलिस सर्विलांस एवं मुखबिर की मदद से दोनों की तलाश में जुटी हुई थी. पुलिस को शुक्रवार की सुबह हत्यारोपी हिना एवं राहुल के सोयेपुर थाना लालपुर में आने की सूचना मुखबिर से मिली. जिसके बाद छापेमारी कर पुलिस ने दत्तक पुत्री एवं दामाद को गिरफ्तार कर लिया.

UP में रविवार को लॉकडाउन, CM योगी ने सभी मंडलायुक्त, DM को दिए जरूरी दिशा-निर्देश

बता दें कि 23 मार्च की देर रात को बिहार से लालता देवी के भाई विजय कुमार अपनी बहन के घर आए थे. लेकिन जब दरवाजा खटखटाने के बाद वह नहीं खुला, तो विजय किसी तरह उसे खोलकर अंदर गए. जहां उन्हें अपनी बहन नहीं दिखाई दी. जिसके बाद घर के पीछे की ओर जाने पर उन्हें खाली जमीन में लालता देवी का शव दरी में लपेटकर रस्सी में बंधा हुआ मिला. विजय की सूचना के आधार पर मंडुवाडीह थाने की पुलिस ने मौके पर पहुंचकर आगे की कार्रवाई की.

15 मई तक बंद रहेंगे ताज समेत देश के 200 से ज्यादा ऐतिहासिक स्मारक

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें