वाराणसी: छठ पूजा के लिए जा रही महिला का एक्सीडेंट, अस्पताल में मौत

Smart News Team, Last updated: 21/11/2020 09:16 PM IST
  • वाराणसी के चौबेपुर थाने के कैथी गांव के पास छठ पूजा के लिए जा रही विवाहित महिला की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. महिला छठ पूजा के लिए अपने मायके जा रही थी. तभी उसे पीछे से एक ट्रैक्टर ने टक्कर ने मारी थी. जिसके बाद बीएचयू ट्रामा सेण्टर ले जाय गया जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.
विवाहित महिला का सड़क दुर्घटना में मौत

वाराणसी के चौबेपुर थाना क्षेत्र में छठ पूजा करने जा रही विवाहिता महिला की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. महिला शनिवार की सुबह को अपने देवर के साथ बाइक पर सवार होकर अपने मायके छठ पूजा करने के लिए जा रही थी. लेकिन रास्ते में अचानक एक ट्रैक्टर ने धक्का मार दिया. जिसके चलते महिला गम्भीर रूप से घायल हो गई. जिसे बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराने ले जाया गया लेकिन जब वह ट्रामा सेंटर पहुची तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

मृतक महिला की पहचान बनारस के ही राजवारी गांव के निवासी राजेश यादव की 35 वर्षीय पत्नी निर्मला देवी के रूप में हुआ. इस घटना के बारे में मृतक का देवर अजीत यादव ने बताया कि मृतिका भाभी का मायका चौबेपुर के ही बर्थरा खुर्द गांव में था. वह अपनी भाभी को लेकर उनके मायके छठ पूजा में शामिल कराने के लिए ले जा रहा था.

चौकाघाट दोहरे हत्याकांड में किट्टू को संरक्षण देने में उसके चाचा और बहनोई अरेस्ट

उसने आगे बताया कि जब वह कैथी गांव के पास पहुचे ही थे कि एक ट्रैक्टर ने अचानक टर्न किया. जिससे उसकी भाभी निर्मला के पैर में एक जोरदार धक्का लगा और वह बाइक से नीचे गिर गई. बाइक से नीचे गिरने के बाद विवाहित महिला गंभीर रूप से घायल हो गई. जिसे आनन-फानन में बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराने के लिए ले जाया गया. जब वह ट्रामा सेंटर पहुंचे तो डॉक्टर ने जांच करने के बाद महिला को मृत घोषित कर दिया.

पहचान पत्र दिखाओ, किराने की दुकान से एलपीजी गैस पाऊं

विवाहित मृतिका के परिजनों ने शव को लेकर चौबेपुर थाने पहुंचे. जहां पर पुलिस ने शव का पंचनामा किया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. जानकारी के अनुसार विवाहिता का पति एक किसान है. विवाहिता के चार बच्चे भी है जिसमे दो लड़कियां 18 वर्षीय चंचल व 16 वर्षीय अर्चना वही दो बेटे 12 वर्षीय आकाश और 10 वर्षीय विकास है. माँ की मौत की घटना सुनने के बाद से बच्चों का रो रोकर बुरा हाल हो गया है और घर मे मातम पसर गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें