बर्ड फ्लू संक्रमण को लेकर डरने की बजाए सतर्क रहने की जरूरत: विशेषज्ञ

Smart News Team, Last updated: Sun, 10th Jan 2021, 6:22 PM IST
  • बर्ड फ्लू संक्रमण को लेकर अगर थोड़ी सी सतर्कता बरती जाए तो इससे छुटकारा पाया जा सकता है. किसी में संक्रमण होने के लक्षण दिखते हैं तो माइक्रोबायोलॉजी के वीडीआरएल में जांच की सुविधा उपलब्ध है. हाल ही में बर्ड फ्लू के डर से लोगों ने अंडा और चिकन खान छोड़ दिया है.
बर्ड फ्लू संक्रमण से सतर्क रहा जाए तो कोई खतरा ही नहीं होगा: विशेषज्ञ

वाराणसी. बर्ड फ्लू को लेकर चल रही चर्चाओं के बीच विशेषज्ञों ने कह दिया है कि इसको लेकर ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है. इसको लेकर अगर थोड़ी सी सतर्कता बरती जाए तो इससे छुटकारा पाया जा सकता है. किसी में संक्रमण होने के लक्षण दिखते हैं तो माइक्रोबायोलॉजी के वीडीआरएल में जांच की सुविधा उपलब्ध है. हाल ही में बर्ड फ्लू के डर से लोगों ने अंडा और चिकन खान छोड़ दिया है. 

बर्ड फ्लू पर बात करते हुए आईएमएस बीएचयू माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रो. गोपाल नाथ का कहना है कि बर्ड फ्लू के संक्रमण को लेकर किसी भी तरह  घबराने की जरूरत नहीं है. इससे बचने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं. कोरोना काल में जैसे लोगों ने कुछ सावधानियां बरती थी बस उसे बरतना जरूरी है. इसके अलावा किसी में संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं तो  उसकी जांच की सुविधा माइक्रोबायोलॉजी के वीडीआरएल लैब में की गई है है.

वाराणसी में अपराधियों का आतंक, घर लौट रहे बिजली कर्मचारी की गोली मारकर हत्या

पिछले कई सालों से यहां संक्रमण की जांच की जा रही है. उन्होंने बताया कि यूपी में केजीएमयू और बीएचयू में ही एच1एन1 संक्रमण की जांच होती है. इससे बर्ड फ्लू के संक्रमण की पुष्टि होती है. अगर इसको लेकर सावधानी बरती जाए तो कोई खतरा नहीं है. 

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के् प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय राय का कहना है कि हाल ही फैल रहे बर्ड फ्लू का यह एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस एच5 एन8 है जो. यह पहले वायरस एच5 एन1 वायरस का म्युटेंट है. इस वायरस का संक्रमण पोल्ट्री फार्म, जंगली, जलीय व प्रवासी पक्षियों में देखा गया है. इसका प्रसार संक्रमित पक्षियों के मल, मुंह के लार, नाक से होने वाले स्राव के संपर्क में आने होता है. आमतौर पर यह देखा गया है कि यह पक्षियों से मनुष्य में फैलता है. सतर्कता बरतते हुए इसको फैलने से रोका जा सकता है. सांस की तकलीफ, सर्दी, खांसी, कफ, बदन दर्द, थकान और बुखार आदि ये लक्षण हैं जो देखे जा सकते हैं. 

जूनियर बालक कबड्डी स्टेट चैंपियनशिप:11 जनवरी को सरदार पटेल इंटर कॉलेज में ट्रॉयल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें