वाराणसी: एनकाउंटर के डर से कांपे बदमाश, बंद किए एक्टिव मोबाइल फोन

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 03:22 PM IST
  • यूपी पुलिस और क्राइम ब्रांच ने किए एनकाउंटर के बाद जमानत पर बाहर चल रहे बदमाशों के ने मोबाइल फोन बंद कर लिए है. पुलिस को आशंका है कि एनकाउंटर के बाद में दहशत का माहौल पैदा हो गया है.
यूपी पुलिस के एनकाउंटर के बाद बदमाशो के अपने फोन बंद कर लिए है.

वाराणसी में पुलिस के डर से जमानत पर बाहर चल रहे लगभग 150 बदमाशों ने अपने मोबाइल फोन बंद कर लिए है. जिसके बाद पुलिस ने सभी बदमाशों की तलाश शुरु कर दिया है. कुछ दिनो पुलिस ने एनकांउटर में दो इनामी बदमाशो को मार गिराया था. पुलिस और क्राइम ब्रांच ने सभी बदमाशो के मोबाइल सर्विलांस पर लगा दिए है. क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक अपराधियों ने दहशत में आकर फोनों को बंद किया है. सर्विलांस के जरिए पुलिस एक लाख के इनामी सोनू और गिरधारी विश्वकर्मा की तलाश में जुटी गई है.

पुलिस ने बताया, कि बीते 22 नवंबर की रात पुलिस ने एनकांउटर में मोनू को ढ़ेर कर दिया था. जिसके बाद कुछ मोबाइल बंद हो गए थे. जब 26 नवंबर की रात को पुलिस ने एक लाख के इनामी बदमाश रोशन गुप्ता उर्फ बाबू को मार गिराया. जिसके बाद सभी मोबाइल बंद जा रहे है. पुलिस और काइम ब्रांच ने आशका जताई है कि दहशत में आकर सभी बदमाशो ने मोबाइल फोन बंद कर लिया है.

पूर्व विधायक की भतीजी को विकास दुबे के गुर्गों ने दी जान से मारने की धमकी

जानकारी के अनुसार, रोशन गुप्ता संग मुठभेड़ में फरार एक लाख के इनामी नरोत्तमपुर के मनीष सिंह की क्राइम ब्रांच लगातार तलाश कर रही है. गुप्त सूत्रों के अनुसार, मनीष सिंह का अशोक यादव के गैंग के साथ संम्पर्क था. जानकारी के अनुसार अशोक की गैंग में कुल आठ सदस्य है. गैंग के सभी सदस्य सीर गोवर्धनपुर के है. गैंग के छह लोग जेल में बंद हैं. जबकि पुलिस सोनू और राजेश की तलाश कर रही है.

वाराणसी: इंजीनियर के घर डकैती, परिवार को चाकू की नोंक पर बंधक बनाया

UP पुलिस मुठभेड़: वाराणसी एनकाउंटर में मारा गया किट्टू, दारोगा समेत दो घायल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें