महात्मा गांधी ने भारतीयों के मन से भय निकाला और आत्मविश्वास का भाव भरा: एमजे अकबर

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 10:36 PM IST
  • इस समारोह में पूर्व विदेशी राज्य मंत्री एम जे अकबर मुख्य अतिथि के रूप में ऑनलाइन संबोधन करते हुए कहा कि भारत को वास्तविक आजादी भले ही 1947 में मिली मगर महात्मा गांधी ने उससे पहले ही लोगों को भय से आजादी दिलाई.
महत्मा गांधी ने भारतीयों के मन से भय निकाला और आत्मविश्वास का भाव भरा: एमजे अकबर

वाराणसी: वाराणसी में स्थित महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ का 1921 में आज ही के दिन उद्घाटन किया गया था. यह उद्घाटन महात्मा गांधी ने किया था. आज उद्घाटन के 100 साल पूरे होने पर काशी विद्यापीठ के शताब्दी वर्ष समारोह की शुरुआत हो चुकी है. इस समारोह में पूर्व विदेशी राज्य मंत्री एम जे अकबर मुख्य अतिथि के रूप में ऑनलाइन संबोधन करते हुए कहा कि भारत को वास्तविक आजादी भले ही 1947 में मिली मगर महात्मा गांधी ने उससे पहले ही लोगों को भय से आजादी दिलाई.

1921 के आंदोलन ने भारतीय जनता के मन से अंग्रेजी हुकूमत के प्रति भय को खत्म कर दिया. इससे भारतीयों का आत्म विश्वास बढ़ा. इस घटना के दो दशक बाद भारत को आजादी मिल गई. इससे पहले भारतीय भयभीत थे. उनके अंदर आत्मविश्वास नहीं था. गांधी जी का बहुत बड़ा योगदान था कि उन्होंने भारतीयों के मन से भय निकाला और आत्मविश्वास का भाव भरा.इससे पहले अंग्रेज कहा करते थे कि वह 400 साल तक भारत पर राज करेंगे. उन्होंने कहा कि अंग्रेजों का यह भ्रम जल्दी ही टूट जाएगा. एमजे अकबर ने कहा कि जब इल्म के दरवाजे बंद हो जाते हैं तो कई समस्याएं पैदा होती हैं. शिक्षा सभी को मिलनी चाहिये. उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के शासन से पहले भारत आत्मनिर्भर था.

UP बोर्ड 2021 एग्जाम डेट शीट जारी, 24 अप्रैल से होगी हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा

 हमारी आत्मनिर्भरता तब खत्म हो गई जब हमने विदेशी ज्ञान को अपने से सर्वश्रेष्ठ मान लिया. महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में चल रहे शताब्दी वर्ष पर आयोजित समारोह में कई विशिष्ट अतिथि उपस्थित थे. समारोह में राज्य मंत्री रविंद्र जायसवाल ने भी विशेष अतिथि के रूप में शिक्षा के प्रति कई सुझाव दिए. राष्ट्रीय भावना को जगाए रखने में विद्यापीठ का अहम योगदान रहा है. यह योगदान बना रहना चाहिए. परिसर में नियमित वंदेमातरम का गायन होना चाहिए. उनकी इच्छा है कि भारत माता मंदिर पर अस्सी फीट की ऊंचाई पर राष्ट्रध्वज लहराया जाए. इसमें विद्यापीठ प्रशासन पहल करे तो वह सहयोग करेंगे. अतिथियों का स्वागत कुलपति प्रो.टीएन सिंह ने किया.

यूपी के स्कूल में कंकाल मिलने से मचा हड़कंप, लॉकडाउन में बनाया गया था शेल्टर होम

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें