मनरेगा मजदूरी भुगतान को लेकर ब्लॉक मुख्यालय का गेट बंद कर मजदूरों का प्रदर्शन

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Sep 2020, 7:20 PM IST
  • मजदूरों का कहना है कि करीब तीन साल पहले मनरेगा मजदूरी का काम किया था लेकिन उसका भुगतान अभी तक नहीं किया गया है.खंड विकास अधिकारी सुरेंद्र प्रताप सिंह ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही जांच करवा कर 15 दिनो मे मजदूरी का भुगतान कर दिया जाएगा.
ब्लॉक मुख्यालय के दरवाजे को बंद करते मनरेगा मजदूर

वाराणसी. रोहनियां-आराजी लाइन ब्लॉक पर गुरूवार को मनरेगा मजदूर यूनियन ने मजदूरी का भुगतान ना होने पर धरना प्रदर्शन किया गया है. मजदूरों का कहना है कि करीब तीन साल पहले मनरेगा मजदूरी का काम किया था लेकिन उसका भुगतान अभी तक नहीं किया गया है. इससे नाराज मनरेगा मजदूरों ने ब्लॉक मुख्यालय का गेट बंद कर धरना प्रदर्शन करना शुरु कर दिया. मजदूरों कहना है कि देश में लगे लॉकडाउन के बाद से उनके पास काम नहीं है और पैसे भी खत्म होने के कारण भुखे मरने की नौबत आ गई है.  

मनरेगा मजदूर यूनियन के संयोजक सुरेश राठौर तथा रामसिंह पटेल के नेतृत्व में तालाबंदी कर धरना प्रदर्शन किया गया. राम सिंह पटेल ने बताया कि तीन साल से राजा तालाब तहसील क्षेत्र के मरूई गांव के श्रमिकों ने मनरेगा अंतर्गत तीन साल पहले मजदूरी काम किया था जिसका भुगतान अभी तक नही हुआ. खंड विकास अधिकारी सुरेंद्र प्रताप सिंह ने आश्वासन दिया है कि जल्द ही जांच करवा कर 15 दिनो मे मजदूरी का भुगतान कर दिया जाएगा. मनरेगा ब्लाक कोआर्डिनेटर अवधेश ने बताया कि गांव के जॉब कार्ड धारक श्रमिकों का जन आधार के रूप में पेमेंट होता है. लेकिन तकनीकी रूप से केवाईसी में गलती के चलते भुगतान नहीं हो पा रहा है. 

वाराणसी: अब किसान पालक की खेती में 20 फीसदी से ज्यादा पैदावार पा सकेंगे

सामाजिक कार्यकर्ता सुरेश राठौर ने बताया कि मजदूरों का पलायन रोकने व इन्हें रोजगार मुहैया करवाने के लिए हात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) का काम शुरु किया गया है. लेकिन सिस्टम के चलते मजदूर तंगहाली में अपना जीवन गुजर बसर कर रहे है. सबसे मजेदार बात तो यह है कि कई फर्जी लोगों के नाम से भुगतान हुआ है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें