वाराणसीः नीति आयोग ले सकता है विद्यापीठ ब्लॉक को गोद, यूनिसेफ टीम का दौरा

Smart News Team, Last updated: Tue, 8th Sep 2020, 8:18 PM IST
  • वाराणसी के विद्यापीठ ब्लॉक को नीति आयोग गोद ले सकता है. इसके लिए यूनिसेफ और यूपीटीएचयू की टीम ने विद्यापीठ ब्लॉक के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र जाकर स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लिया. इस विकासखंड के कई गांवों में एएनएम और आशा कार्यकत्रियों की कमी सामने आई.
नीति आयोग कार्यालय , नई दिल्ली

वाराणसीः काशी विद्यापीठ ब्लॉक के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचकर यूनिसेफ और यूपीटीएचयू की ने टीम मंगलवार को स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लिया. प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आई टीम ने यहां के अधिकारी और कर्मचारियों से बात की. जिसमें स्वास्थ्य सेवाओं की कमी की भी बात कही गई. कहा जा रहा है कि अक्टूबर में नीति आयोग काशी विद्यापीठ ब्लॉक को गोद ले सकती है.

यूनिसेफ और यूपीटीएचयू की टीम ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. नवीन सिंह से विद्यापीठ ब्लॉक के बारे में जानकारी प्राप्त की. इस बातचीत में अधिकारियों ने विकास खण्ड की आबादी, आशा कार्यकर्ता की तैनाती, ग्रामीण स्वास्थ्य पोषण समिति, टीकाकरण और उपस्वास्थ्य केन्द्र के बारे में भी जानकारी ली. डॉ. नवीन सिंह ने फुलवरिया, भगवानपुर, सुसवाहीं लोहतां और कोटवा जैसे बड़ी आबादी वाले गांवों में एएनएम और आशा कार्यकर्ता की कमी की बात कही.

वाराणसी के प्राइवेट अस्पताल में शॉर्ट सर्किट से लगी आग से मचा हड़कंप

चर्चा में विद्यापीठ विकास खंड को नीति आयोग के द्वारा गोद लेने की भी बात सामने आई. अगर नीति आयोग इस ब्लॉक को गोद लेता है तो उसे मॉडल विकास खण्ड बनाया जाएगा. जहां विकास के सारे मानकों को लाया जाएगा. इस विकास खंड की पंचायतों को भी आदर्श तौर पर विकसित किया जाएगा. नीति आयोग का उद्देश्य होता है कि वो गोद लिए विकास खंड के लोगों के जीवन स्तर को सुधारें और बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराएं. यूनिसेफ और यूपीटीएचयू की टीम में मुरारी और अनिल कुमार थे जिन्होंने स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लिया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें