PM मोदी के गढ़ में इस गांव के लोगों को नहीं है कोरोना का खौफ, पूछो तो कहते हैं..

Smart News Team, Last updated: 08/04/2021 04:32 PM IST
  • काशी विद्यापीठ ब्लॉक के चांदपुर, केराकतपुर से जहां ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमण को लेकर आश्वस्त हैं, उनका कहना है कि उन्हें कोरोना नहीं होगा.
PM मोदी के गढ़ में इस गांव के लोगों को नहीं है कोरोना का खौफ, पूछो तो कहते हैं.. (प्रतीकात्मक फ़ोटो)

वाराणसी: देश में बढ़ते कोरोना के भीषण प्रकोप के बीच लोगों में इसको लेकर कोई सतर्कता नही है, चाहे वो गांव हो या शहर इसी तरह बेखौफ हैं काशी के लोग. ऐसी ही एक खबर है, काशी विद्यापीठ ब्लॉक के चांदपुर, केराकतपुर से जहां ज्यादातर लोग कोरोना संक्रमण को लेकर आश्वस्त हैं, उनका कहना है कि उन्हें कोरोना नहीं होगा. अधिकतर लोग मास्क नहीं लगाते और सामाजिक दूरी का पालन भी नहीं करते हैं. हालांकि ग्रामीण क्षेत्र में भी कोरोना के मामले हैं. 

चांदपुर के रवि सोनकर व केराकतपुर के बबलू पटेल कोरोना वायरस से बचने के लिए ना तो मास्क पहनते हैं और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं. भिटारी के अशोक पटेल,चुरामनपुर के अजीत सोनी आरोप लगाते हुए कहते हैं की कि सरकार के नाकामी से उनका रोजगार चौपट हो गया. उन्होंने बताया कि आर्थिक तंगी ऐसी की जीवन वैसा ही है जैसा पहले हुआ करता था. कोरोना संक्रमण को लेकर लोग सतर्क नहीं हैं. हालत ऐसी है की गांवों में लोगों ने बड़े पैमाने पर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करना छोड़ दिया है.

वाराणसी में महिला की दबंगई, अफसरों के सामने पुलिसकर्मी की पिटाई, वीडियो वायरल

लोगों का ऐसा मानना है कि सरकार अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभा पा रही है. लोग बेरोजगार हो गए हैं. सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए कोरोना वायरस की आड़ लेकर कोरोना के अफवाह को जानबूझकर फैलाकर बचने का प्रयास कर रही है. उनका कहना है कि वायरस उतना बड़ा गंभीर खतरा नहीं है जितना मीडिया दिखा रही है. ग्रामीणों का कहना है कि वो इतना मेहनत करते हैं कि वो कोरोना संक्रमित हो ही नहीं सकते अगर उन्हें संक्रमण हो भी गया तो पसीने से बाहर आ कर खुद ही खत्म हो जायेगा. उनका मानना है कि उन्हें कुछ हो ही नहीं सकता है क्योंकि वे शुद्ध हवा ले रहे हैं और ताजी सब्जी खा रहे हैं. 

लखनऊ STF को बड़ी सफलता, 50 हजार का इनामी बदमाश गिरफ्तार

ज्यादातर ग्रामीण कोरोना को मानसिक दहशत से ज्यादा कुछ नहीं मानते. चांदपुर के विवेक यादव,संदीप पटेल आरोप लगाते हुए कहते हैं कि सरकार चाहती है कि गरीबों और मध्यम वर्गीय लोगों का बच्चा अनपढ़ ही रह जाए इसीलिए स्कूलों को बंद कर रखा है. आरोप लगाया कि सरकार की मंशा है कि लोग भर-भर कर मंदिर न जाएं और शादियों में भीड़ न लगाएं, लेकिन ट्रकों में पैक हो कर रैली मैदान में ज़रूर उपस्थित रहें,चुनावों में लोग जमकर भागीदारी करें. उनका कहना है कि गांवों में इन दिनों चुनावी उल्लास चरम पर है,कोरोना का कहीं कोई जिक्र तक नहीं है.

पुलिस की घेराबंदी के डर से पुल से कूदे पशु तस्कर, तीनों की मौत

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 4478 नए मामले सामने आए हैं और इसी के साथ यहां बृहस्पतिवार तक मरीजों का आंकड़ा 31987 तक पहुंच गया है. इस दौरान 40 नई मौतों के साथ मरने वालों की कुल संख्या 8964 पहुंच गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को ये जानकारी दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें