वाराणसी से CM योगी के लौटते ही ठंडे पड़ गए अधिकारी, काम को लेकर सक्रियता खत्म

Smart News Team, Last updated: Mon, 10th May 2021, 6:53 PM IST
  • वाराणसी से सीएम योगी के वापस लौटते ही अधिकारियों ने कोरोना संबंधित अपने कार्यों में ढ़ील दिखानी शुरू कर दी. सीएम के आने से पहले टिकरी गांव में सफाई के साथ ही दवाओं का वितरण भी कराया गया था. लेकिन सोमवार को न तो कोई दवा बांटने आया और न ही जांच करने. ग्रामीणों ने सोशल मीडिया पर इस बात की नाराजगी जताई है.
सीएम योगी के वाराणसी से जाते ही अधिकारियों की काम को लेकर सक्रियता हुई खत्म

वाराणसी. रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वाराणसी आने से पहले अधिकारियों ने कोरोना व्यवस्थाओंं को लेकर टिकरी गांव में कई कार्य किए थे. गांव में अधिकारियों के निर्देश पर सरकारी कर्मचारी साफ-सफाई करने में जुट गए थे. गांव पहुंचकर लोगों को दवाईयां भी बांटी गई थी. लेकिन सीएम के वाराणसी से जाते ही अधिकारियों के कोरोना से संबंधित कार्यों की सक्रियता खत्म हो गई. सोमवार को गांव में न तो कोई दवा बांटने आया और न ही कोविड टेस्ट किए गए. जिसे लेकर गांव वालों ने सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी जाहिर की है.

दरअसल रविवार को सीएम योगी डीआरडीओ की ओर से निर्मित अस्थाई कोविड अस्पतालों का निरीक्षण करने के लिए वाराणसी आए थे. इसी क्रम में वे टिकरी गांव में भी व्यवस्थाओं का निरीक्षण करने के लिए आए थे. सीएम के आने से पहले सरकारी कर्मचारियो ने अधिकारियों के निर्देश पर गांव में साफ-सफाई की. इसके अलावा कुछ बस्तियों में लोगों को दवा भी वितरित की गई. हालांकि सीएम की वापसी के बाद अधिकारियों ने अपने कामों में सुस्ती दिखा दी. जिससे गांव वालों में नाराजगी देखने को मिली है.

वाराणसी में कोरोना टीका केंद्र पर वैक्सीन खत्म होने के बाद लोगों का जमकर हंगामा

ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि सीएम के आने से पहले गांव की साफ-सफाई के लिए कर्मचारियों के साथ अधिकारी भी सुबह-सुबह पहुंच गए थे. लेकिन मुख्यमंत्री के जाने के बाद गांव में कोई अधिकारी या कर्मचारी नहीं दिखाई पड़ा. यहाँ तक की सोमवार को दवा वितरित करने एवं जांच करने के लिए भी कोई गांव में नहीं आया. इसके अलावा स्थानीय लोगों ने यह भी आरोप लगाया है कि बगल के नैपुरा गांव में कोरोना से मृत्यु हुई थी. अगर सीएम का वहाँ पर दौरा कराया गया होता, तो कोरोना से संबंधित व्यवस्था को लेकर सारी सच्चाई सामने आ जाती. गांव वालों ने सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म पर अपनी नाराजगी जताई है.

IIT कानपुर की रिसर्च में दावा- अक्टूबर में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें