भारतीय हॉकी खिलाड़ी ललित उपाध्याय ने काशी विश्वनाथ को समर्पित किया मेडल

Smart News Team, Last updated: Wed, 11th Aug 2021, 7:17 PM IST
  • भारतीय हॉकी खिलाडी ललित उपाध्याय टोक्यो से लौटकर वाराणसी पहुंचे. वाराणसी पहुंचने के बाद साबसे पहले वो कशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने बाबा के दरबार में पूजा अर्चना की. ललित उपाध्याय ने ओलंपिक पदक कशी विश्वनाथ को समर्पित किया. 
भारतीय हॉकी खिलाड़ी ललित उपाध्याय ने कशी विश्वनाथ मंदिर दर्शन पूजन कर बाबा का आभार जताया.

वाराणसी. टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचकर भारतीय हॉकी टीम स्वदेश लौट गई है. पूरे देश ने हॉकी टीम को बधाई दी. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हॉकी टीम को बधाई दी. भारतीय हॉकी टीम ने 40 साल बाद ओलंपिक में पदक जीता है. ओलंपिक में पदक जीतने के बाद भारतीय हॉकी टीम के खिलाड़ी ललित उपाध्याय वाराणसी वापस पहुंचे. एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद ललित उपाध्याय का भव्य स्वागत किया. ललित उपाध्याय सबसे पहले कशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे जहा उन्होंने पूजा अर्चना की.  ललित ने अपना हॉकी पदक बाबा विश्वनाथ को समर्पित किया. 

वाराणसी पहुंचने पर ललित का भव्य स्वागत किया गया. उनके वाराणसी पहुंचने की खबर लगते ही खिलाड़ी और बनारस के लोग स्वागत के लिए एयरपोर्ट पर पहुंच गए. एयरपोर्ट पर ललित उपाध्याय का स्वागत करने मंत्री रविन्द्र जयसवालभी उपस्थित रहे. हाथ में तिरंगा लेकर ललित ने सभी का धन्यवाद किया. ढोल नगाड़े बजाकर लोगों ने जमकर खुशी मनाई. जिसके बाद वो सबसे पहले कशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचे. वहां बाबा के दर्शन कर पूजा अर्चना की. ललित उपाध्याय ने अपना पदक बाबा विश्वनाथ को समर्पित किया.

वाराणसी में बाढ़ जैसे हालात से PM मोदी परेशान, DM से बात कर दिए खास निर्देश

ललित उपाध्याय ने इस मौके पर कहा है की मेरे लिए यह सबसे बड़ा खुशी का पल है. जहां आज बनारस के लोगों ने मेरा इतना भव्य स्वागत किया. उन्होंने कहा है की देश के लिए हॉकी में पदक जीतना बड़े गर्व की बात है. बनारस के युवा भी हॉकी की तरफ आकर्षित होंगे. भविष्य में और भी पदक देश को हॉकी में मिलेंगे. ललित ने मीडिया के सामने अपने टोक्यो ओलंपिक के सफर का भी जिक्र किया. जिला हॉकी एसोसिएशन ललित को सम्मानित भी करेंगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें