हमले से डर घर में कैद हुई एक दिन की थानेदार जीविका, प्री बोर्ड एग्जाम भी छूटा

Smart News Team, Last updated: Mon, 18th Jan 2021, 7:59 PM IST
  • जीविका सिंह घर से अपने स्कूल जा रही थी तभी बीच सड़क पर एक कार रुकी और उस कार से घूंघट किए एक औरत निकल कर जीविका के सामने खड़ी हो गई। तभी डरी जीविका ने उस औरत को धक्का दे कर भागने की कोशिश कि. जबकि उस औरत ने जीविका को पकड़ कर कार मे बैठाने की कोशिश कर रही थी.
हमले से डर घर में कैद हुई एक दिन की थानेदार जीविका, प्री बोर्ड एग्जाम भी छूटा

वाराणसी: दसवीं में पढ़ने वाली जीविका सिंह, जिसे नवंबर महीने में मडुवाडीह थाना में एक दिन के लिए थाना प्रभारी बनाया गया था. उस पर किसी अज्ञात औरत द्वारा बीच सड़क जानलेवा हमला कर घायल कर दिया साथ ही अपहरण करने की कोशिश की गई.जीविका सिंह घर से अपने स्कूल जा रही थी तभी बीच सड़क पर एक कार रुकी और उस कार से घूंघट किए एक औरत निकल कर जीविका के सामने खड़ी हो गई। तभी डरी जीविका ने उस औरत को धक्का दे कर भागने की कोशिश कि. जबकि उस औरत ने जीविका को पकड़ कर कार मे बैठाने की कोशिश कर रही थी. 

लेकिन जीविका बच निकलने मे सफल हो गई. बच निकलने के दरमियान ही उस औरत ने जीविका पर किसी धारदार चीज से हमला कर घायाल कर दिया। हमले में जीविका के कलाई में चोट आई है. इस घटना से डरी जीविका पिछ्ले चार दिनो से खुद को घर के चार दिवारी में कैद कर ली है। इस बीच जीविका का प्री बोर्ड परीक्षा भी था. लेकिन घटना से डरी जीविका घर से निकलने को तैयार नहीं है और उसका परीक्षा छूट गया। जीविका के घर वाले बतातेहैं कि वो इस हमले से इतना सहमी है कि वह अपने घर में भी दिन रात अपनी मां मुन्नी देवी के साथ-साथ ही रहती है.

प्राइवेट एजेंसी को सौंपा ड्राइविंग लाइसेंस बनाने का काम, चक्कर काट रहे लोग

ये घटना मडुवाडीह थाने के मुंह पर एक जोरदार तमाचा है। जीविका के पिता राजेंद्र सिंह बोलते हैं कि पुलिस इस घटना को हल्के में ले रही. क्या कोई बड़ी घटना होने के बाद ही मडुवाडीह थाना चेतेगी?

वाराणसी से स्टेच्यू ऑफ यूनिटी तक चलेगी पहली ट्रेन, PM मोदी ने दिखाई हरी झंडी

वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि वर्ष 2018 में भी इस तरह की घटनाएं मडुवाडीह थाना क्षेत्र में हो चुकी है. उस समय कई औरतों का अपहरण कर हत्या कर दी गई थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें