नीट के सॉल्वर गैंग के सरगना PK पर एक लाख का इनाम घोषित, बिहार से त्रिपुरा तक हो रही तलाश

Swati Gautam, Last updated: Thu, 18th Nov 2021, 1:45 PM IST
  • वाराणसी में हुई NEET परीक्षा में फर्जीवाड़ा के मामले में सॉल्वर गैंग के सरगना नीलेश सिंह उर्फ प्रेम कुमार उर्फ पीके पर पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने 1 लाख रुपए का इनाम घोषित कर दिया है. पीके के खिलाफ कोर्ट से एनबीडब्ल्यू यानी गैर जमानती वारंट भी जारी है.
नीट के सॉल्वर गैंग के सरगना PK पर एक लाख का इनाम घोषित, बिहार से त्रिपुरा तक हो रही तलाश. file photo

वाराणसी. वाराणसी में मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET-UG में फर्जी तरीके से दाखिला दिलाने वाले सॉल्वर गैंग के सरगना नीलेश सिंह उर्फ प्रेम कुमार उर्फ पीके पर पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने 1 लाख रुपए का इनाम घोषित कर दिया है. इतना ही नहीं आरोपी पीके के खिलाफ कोर्ट से एनबीडब्ल्यू यानी गैर जमानती वारंट भी जारी है. पीके की तलाश में पुलिस की टीमें और क्राइम ब्रांच बिहार, कर्नाटक, त्रिपुरा तक तलाश में जुटी हैं. जानकारी अनुसार बिहार के छपरा जिले के एकमा थाना अंतर्गत सेंधवा गांव का मूल निवासी PK पटना में पाटलिपुत्र में मकान बनवा कर रहता था.

बता दें कि बीते 12 सितंबर 2021 को सारनाथ के एक परीक्षा केंद्र पर त्रिपुरा की हीना विश्वास की जगह बीएचयू की बीडीएस की छात्रा जूली कुमारी को परीक्षा देते पकड़ा गया था. प्रकरण में अब तक जूली, उसकी मां बबिता, भाई, साल्वर गिरोह में शामिल मऊ निवासी केजीएमयू के छात्र ओसामा, बिहार निवासी विकास कुमार महतो, रवि कुमार गुप्ता, एक अन्य अभ्यर्थी अगरतला के तमाल साहा के पिता तपन साहा को पुलिस गिरफ्तार का चुकी है. वहीं, सॉल्वर गैंग का सरगना पीके, हिना बिश्वास सहित अन्य आरोपी अपने-अपने घर छोड़ कर फरार चल रहे हैं.

वाराणसी: अज्ञात ट्रक चालक ने किया PRB 112 पुलिस कर्मियों को कुचले का प्रयास, दो सिपाही घायल

बता दें कि बीती 16 नवंबर को पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने पीके के गिरोह के लखनऊ का कैसरबाग निवासी डॉ. अफरोज और त्रिपुरा के गर्जनमुरा निवासी मृत्युंजय देव नाथ पर पर 20-20 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि पीके और उसके गिरोह से जुड़े लोगों के खिलाफ सारनाथ थाने में 2 मुकदमे दर्ज हैं. सारनाथ थाना प्रभारी को कहा गया है कि वांछित सभी आरोपियों की धरपकड़ जल्द की जाए. सभी आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करने के साथ ही उनकी गैंग रजिस्टर्ड की जाएगी. इतना ही नहीं सभी आरोपियों की संपत्तियां भी गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्त की जाएंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें