Dev Diwali: अब तक 300 नाव समेत दो सौ होटलों की ऑनलाइन बुकिंग, जानें देव दिवाली का महत्व

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 9:16 AM IST
  • देव दिवाली देखने के लिए आने वाले पर्यटक गंगा की बीच धारा में बजड़े और नाव पर बैठकर गंगा आरती का लुफ्त उठा पाएंगे. इस साल देव दीपावली पर 50 सीटर बजड़े की बुकिंग 1,50 लाख रुपये में की गई.
इस बार कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि यानि देव दिवाली का पर्व 19 नवंबर को मनाया जाएगा.

वाराणसी. काशी विश्वविख्यात देव दीवाली महोत्सव के लिए तैयार है. देव दीवाली महोत्सव देखने के लिए बाहर से आने वाले सैलानियों ने ऑनलाइन होटल और नावों की बुकिंग कर लिया है. देव दिवाली देखने के लिए आने वाले पर्यटक गंगा की बीच धारा में बजड़े और नाव पर बैठकर गंगा आरती का लुफ्त उठा पाएंगे. इस साल देव दीपावली पर 50 सीटर बजड़े की बुकिंग 1,50 लाख रुपये में की गई. इस बार पर्यटकों ने तीन सौ से अधिक बजड़ा और नाव ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में बुक किया है.

इस देव दिवाली को देखने हर साल हजारों की तादाद में सैलानी काशी आते हैं. इस साल भी बाहर से आने वाले पर्यटकों को रहने के लिए होटलों और लॉज को बुक किया गया है. अभी तक बजड़ा, नाव और होटल बुक कराने वालों में सबसे ज्यादा दक्षिण भारतीय, दिल्ली, लखनऊ के रहने वाले सैलानी हैं. फिलहाल, देव दिवाली में आने पर्यटकों की लिस्ट बनाकर एलआईयू जानकारी जुटा रही है. अस्सीघाट से दशाश्वमेध घाट बजड़े और नाव का संचालन कराने वाले विकास साहनी, अजय साहनी, राजेश ने बताया कि मोबाइल पर फोन के माध्यम से अभी तक करीब 3 सौ बजड़ा और नाव मिलाकर बुक किया जा चुका हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि सैलानी एडवांस गूगल पे और पेटीएम कर रहे हैं. लंका से गोदौलिया, लक्सा, सिगरा इलाके में सौ से अधिक होटलों और लॉजों की बुकिंग हो चुकी है.

सावधान! शोध से खुलासा मां के गर्भ में बच्चों तक फैल रहा जीका वायरस का संक्रमण

बताते चलें कि पांचांग के अनुसार इस बार कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि यानि देव दिवाली का पर्व 19 नवंबर को मनाया जाएगा. धार्मिक मान्यताओं के अुनसार इसे त्रिपुरारी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. ऐसा मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक दैत्य को मारा था, इस कारण इसे त्रिपुरारी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. वाराणसी में देव दीवाली महोत्सव देखने के लिए बाहर से आने वाले सैलानियों ने ऑनलाइन होटल और नावों की बुकिंग कर लिया है. देव दिवाली देखने के लिए आने वाले पर्यटक गंगा की बीच धारा में बजड़े और नाव पर बैठकर गंगा आरती का लुफ्त उठा पाएंगे. इस साल देव दीपावली पर 50 सीटर बजड़े की बुकिंग 1,50 लाख रुपये में की गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें