ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट का पुरातात्विक सर्वेक्षण कराने का आदेश

Smart News Team, Last updated: 09/04/2021 12:27 PM IST
  • काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद के मामले में वाराणसी की सिविल जज सीनियर डिवीज़न फास्ट ट्रैक कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के पुरातात्विक सर्वेक्षण को मंजूरी दी है.
पुरातात्विक सर्वेक्षण को मंजूरी

वाराणसी: काशी विश्वनाथ मंदिर से सटी ज्ञानवापी मस्जिद के मामले में कोर्ट ने एक नया आदेश जारी किया है. वाराणसी की सिविल जज सीनियर डिवीज़न फास्ट ट्रैक कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के पुरातात्विक सर्वेक्षण को मंजूरी दी है.

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर हिन्दू पक्ष का दावा है कि विवादित ढांचे के फर्श के नीचे करीब 100 फीट ऊंचा आदि विशेश्वर का स्वयम्भू ज्योतिर्लिंग है और ढांचे की दीवारों पर हिंदू देवी-देवताओं के चित्र बने हुए हैं.

टीकाकरण होने के बाद भी वाराणसी सीएमओ वीबी सिंह हुए कोरोना संक्रमित

काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी मामले में साल 1991 में वाराणसी की कोर्ट में मुकदमा दाखिल हुआ था. कोर्ट में दाखिल याचिका में ज्ञानवापी में पूजा की अनुमति मांगी गई थी. याचिकाकर्ता का कहना था कि 250 साल पहले महाराजा विक्रमादित्य ने यहां मंदिर का निर्माण कराया था. विवादित स्थल के भूतल में एक तहखाना है. ज्ञानवापी मस्जिद के बाहर नंदी की विशालकाय मूर्ति है, जिसका मुख मस्जिद की ओर है.

वाराणसी सर्राफा बाजार में सोना चांदी चमका, क्या है आज का मंडी भाव

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने साल 1993 में इस मामले में स्टे लगा दिया था. स्टे ऑर्डर की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद साल 2019 में वाराणसी कोर्ट में एक बार फिर से मामले की सुनवाई शुरू हुई. जिसके बाद गुरुवार को कोर्ट ने इसके पुरातात्विक सर्वेक्षण का आदेश दिया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें