पक्षी महोत्सव पर सोनभद्र के रजखड़ जलाशय पर मेहमान पक्षियों को देखने को उमड़े लोग

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Feb 2021, 7:23 PM IST
  • रेणुकूट वन प्रभाग के तत्वाधान में मंगलवार को सोनभद्र जिले के दुद्धी विकासखंड क्षेत्र के रजखड़ गांव के जलाशय पर पक्षी दर्शन महोत्सव का आयोजन किया गया. इसमें स्कूली छात्र समेत पर्यावरणविद और बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लेकर मेहमान पक्षियों का अवलोकन कर खुशी का इजहार किया.
वार्षिक पक्षी महोत्सव (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वाराणसी : रेणुकूट वन प्रभाग की ओर से हर साल 2 फरवरी को पक्षी दर्शन महोत्सव का आयोजन किया जाता है. इस महोत्सव में देसी पक्षियों के अलावा बड़ी संख्या में प्रवास पर विदेशी भी पक्षी प्रेमियों का मनोविनोद करते हैं. मंगलवार को भी जिले के दुद्धी विकासखंड क्षेत्र के रजखड़ गांव के जलाशय पर पक्षी दर्शन महोत्सव का आयोजन किया गया. सुबह से ही इस जलाशय पर दुद्धी वन क्षेत्राधिकारी दिवाकर दुबे की अगुवाई में वन कर्मियों के साथ बड़ी संख्या में विद्यार्थियों का एक दल जलाशय पर पहुंचा.

वही सतत वहिनी नदी पर विंढमगंज रेंजर विनोद बृजेंद्र श्रीवास्तव भी दल बल के साथ दिलासे पर पहुंचे. यहां उन्होंने स्कूली बच्चों को पक्षियों के विभिन्न प्रजाति के साथ हर साल भारी संख्या में आने वाले विदेशी पक्षियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी. महोत्सव में मौजूद पर्यावरणविदों ने बढ़ते प्रदूषण पर दुख व्यक्त करते हुए पक्षियों की कम संख्या पर चिंता जताई और लोगों को इसके प्रति जागरूकता लाने की अपील की. सोनांचल के जंगलों से विलुप्त होती कई पक्षियों की प्रजाति को लेकर भी चर्चा करते हुए विशेषज्ञों ने प्रदूषण को इसका प्रमुख कारण माना. 

केजरी में 20, 50 व 100 रूपये के स्टांप पेपर का स्टॉक खत्म, भटक रहे जरूरतमंद

विशेषज्ञों ने बताया कि बदलते आबोहवा के कारण मेहमान के रूप में आने वाले साइबेरियन पक्षियों की कम संख्या दिखाई दे रही है. पक्षी दर्शन महोत्सव के मौके पर मौजूद राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के जीव विज्ञान के छात्रों को क्षेत्राधिकारी दिवाकर दुबे ने मेहमान पक्षियों एवं उनके सामान्य व्यवहार व दिनचर्या के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी. इस मौके पर बघाडू वन क्षेत्राधिकारी रूप सिंह कन्हैयालाल सर्वेश सिंह प्रोफेसर हरिओम वर्मा सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं और ग्रामीण मौजूद रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें