एक अप्रैल से काशी में नहीं चलेंगे पेट्रोल-डीजल युक्त ऑटो

Smart News Team, Last updated: Fri, 26th Feb 2021, 12:56 PM IST
  • पर्यटन के लिहाज से काशी को प्रदूषण मुक्त बनाए जाने के लिए जिला प्रशासन की ओर से कवायद शुरू कर दी गई है. इस क्रम में परिवहन विभाग और जेल प्रशासन की ओर से आगामी 1 अप्रैल से काशी की सड़कों पर पेट्रोल-डीजल युक्त ऑटो संचालन पर रोक लगाने का निर्णय लिया गया है.
एक अप्रैल से काशी में नहीं चलेंगे पेट्रोल-डीजल युक्त ऑटो (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वाराणसी: गुरुवार को मंडलीय सभागार में मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल की अध्यक्षता में संभागीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक हुई. इस बैठक में मौजूद संभागीय परिवहन अधिकारी और गेल के मुख्य प्रबंधक मार्केटिंग सुरेश तिवारी ने बताया कि मौजूदा समय में वाराणसी में 10 सीएनजी फिलिंग स्टेशन है. जिनकी क्षमता 1 लाख किलो सीएनजी प्रतिदिन से अधिक की है. उन्होंने बताया कि सीएनजी स्टेशनों की क्षमता के सापेक्ष खपत प्रतिदिन मात्र 30,000 किलो की ही हो रही है. 

गेल के मुख्य प्रबंधक और संभागीय परिवहन अधिकारी के द्वारा रखे गए इन आंकड़ों पर विचार विमर्श करते हुए बैठक में निर्णय लिया गया कि आगामी 31 मार्च के बाद वाराणसी में केवल सीएनजी ऑटो ही मान किए जाएंगे. किसी भी सूरत में 1 अप्रैल से पेट्रोल और डीजल युक्त ऑटो सड़कों पर नहीं दिखाई देने चाहिए. इसके लिए मंडलायुक्त की ओर से संबंधित अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं. 

BHU गेट पर धरना दे रहे 5 छात्रों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, धरना स्थल खाली कराया

बैठक में गेल के द्वारा बताया गया कि यदि स्कूली बसों और अन्य प्रतिष्ठानों की आधिकारिक बसों को सीएनजी में परिवर्तित करा दिया जाए तो यह ना केवल वाहन मालिकों और सरकार के लिए किफायती होगा बल्कि वाराणसी के पर्यावरण को भी साफ सुथरा बनाने में सहायक सिद्ध होगा. बैठक में मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने शहर में संचालित 50 बसों को सीएनजी में परिवर्तित कराए जाने के परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए.

वाराणसी: काशी विद्यापीठ के छात्रसंघ चुनाव में कांग्रेस को मिली जीत, ABVP का सफाया

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें