गंगा जमुनी परंपरा कायम, मंदिर के प्रांगण में स्थित है मजार, पेश की अनूठी मिसाल

Ruchi Sharma, Last updated: Wed, 26th Jan 2022, 12:45 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के जौनपुर में गंगा जमुनी तहजीब की अनूठी मिसाल देखने को मिल रही है. यहां गजानन के प्रांगण में पीर बाबा की मजार स्थित है. यह अनूठा धर्म स्थल है. दोनों संप्रदाय के लोग यहां पूजा करते हैं.
मंदिर के प्रांगण में स्थित है मजार (तस्वीर-साभार सोशल मीडिया )

जौनपुर. हिंदुस्तान की खूबसूरती है इसकी गंगा-जमुनी तहजीब. अनेकता में एकता और आपसी भाईचारा. हालांकि, आजकल इसी खूबसूरती को खत्म करने में भी कुछ लोग लगे हुए हैं. लेकिन ऐसी बहुत सी मिसालें हैं जो उम्मीद जगाती हैं,ऐसा ही कुछ देखने को मिला है उत्तर प्रदेश के जौनपुर में. यहां गंगा जमुनी तहजीब की अनूठी मिसाल देखने को मिल रही है. यहां गजानन के प्रांगण में पीर बाबा की मजार स्थित है. यह अनूठा धर्म स्थल है. दोनों संप्रदाय के लोग यहां पूजा करते हैं.

स्थानीय लोग बराबर श्रद्धा से आते हैं और शीश झुकाते हैं. खास बात यह है कि यहां दोनों संप्रदाय के लोग एक साथ पूजा और इबादत भी करते हैं. शहर के अल्फास्टिंनगंज में स्थित यह मंदिर अपने आप में अनूठा है. बाहर से देखने में यह मंदिर समान्य नजर आता है जबकि मंदिर के सामने एक मस्जिद भी है. इस मंदिर के प्रांगण में पहुंचते ही बाहर से आने वाला हर कोई हैरान हो जाता है क्योंकि मंदिर में ऊपर भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित है तो नीचे एक पुराने पीर बाबा की मजार बनी हुई है.

पढ़ी जाती है नमाज व होती है पूजा पाठ

यहां रहने वाले लोगों का कहना है कि हिंदू मुस्लिम सब एक हैं. मजहब एक है. वे कहते हैं कि हम मंदिर में हाथ भी जोड़ते हैं और मस्जिद में मत्था भी टेकते हैं. यहां सुबह व शाम जहां लोग मंदिरों में पूजा पाठ करते हैं तो वहीं मस्जिद में अजान की सदाएं गूंजती हैं और नमाज भी पढ़ी जाती है.

नहीं है कोई झगड़ा विवाद

लोगों का कहना है कि यहां मंदिर काफी पुराना है. साथ ही मस्जिद भी काफी पुराना है. यहां कभी किसी प्रकार का कोई झगड़ा या विवाद नहीं होता है. सभी लोग अपने धर्म के अनुसार यहां आते हैं. पूजा करते हैं. मत्था टेकते हैं. लोग आपसी प्रेम भाव के साथ पूजा करते हैं. यहां गंगा जमुना की अनोखी मिसाल देखने को मिलती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें