धोखाधड़ी करने वाली कंपनी के CMD व पत्नी समते 4 पर गैंगस्टर एक्ट, ऐसे लगाते थे लोगों को चुना

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 9:05 AM IST
  • वाराणसी पुलिस ने प्लाटिंग, सोना और टूर ऐंड ट्रैवेल्स स्कीम के जरिए लोगो के साथ धोखाधली करने वाली कंपनी नीलगिरि इंफ्रासिटी के सीएमडी और पत्नी समेत 4 पर गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है.
धोखाधड़ी करने वाली कंपनी के CMD व पत्नी समते 4 पर गैंगस्टर एक्ट, ऐसे लगाते थे लोगों को चुना

वाराणसी. उत्तर प्रदेश पुलिस ने धोखाधड़ी कर्म वाली वाराणसी की कंपनी निलीगिरी इंफ्रासिटी के प्रतिनिधियों पर एक और शिकंजा कसा है. इस बार पोलिस ने कंपनी के सीएमडी विकास सिंह, उनकी पत्नी रितु सिंह, प्रदीप यादव और प्लस मिश्र के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है. वहीं यह मुकदमा चेतगंज पुलिस थाने में किया गया है. पुलिस के अनुसार ये सभी प्लाटिंग, सोना और टूर एंड ट्रेवल्स स्कीम समेत अन्य के जरिए गरीब और मध्यवर्गीय परिवार के लोगों के साथ धोखाधड़ी करते थे.

इस मामले के बारे में सीपी ए सतीश गणेश ने बताया कि गिरफ्तार किए गए सभी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. जिसके चलते धोखाधड़ी से अर्जित की गई इनकी सम्पत्तियां जब्त की जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि विकास सिंह ने नीलगिरी इंफ्रासिटी नाम से चेतगंज में एक कंपनी खोली. जिससे उन्होंने सैकड़ों लोगों के साथ धोखाधड़ी किया. इन्होंने न केवल यूपी ही बल्कि बिहार, झारखंड, मध्यप्रदेश और देश के बाहर के लोगों को भी अपना शिकार बनाया. जो इसकी शिकायतें दर्ज करा रहे है. जिसके चलते इनके ऊपर गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है.

वाराणसी में दिवाली पर घर आए युवक को आपसी कहासुनी में दोस्तों ने मारी गोली, मौत

बता दें कि नीलगिरी इंफ्रासिटी के नाम से विकास सिंह और उनकी पत्नी रितु सिंह लोगों को जमीन खरीद-बिक्री, सोना और ट्रैवलिंग के नाम पर धोखाधड़ी करती थी. जो लोगों से जमीन दिखाकर बतौर एडवांस ले लेते थे. इतना ही नहीं वह जिस जमीन की रजिस्ट्री देते थे उसकी जांच कराने पर पता चलता था कि वह जमीन तो वहां पर है ही नहीं. ऐसे ही कई अन्य तरीकों से इन्होंने लोगों के साथ धोखाधड़ी किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें