संजय राउत के खिलाफ वाराणसी में दर्ज हो सकता है केस, BJP नेता ने की शिकायत

Smart News Team, Last updated: 09/09/2020 12:41 PM IST
  • शिवसेना पार्टी के सांसद और प्रवक्ता संजय राउत के खिलाफ कंगना रानौत पर किए गए टिप्पणी को लेकर वाराणसी में केस दर्ज हो सकता है. वाराणसी के सिगरा थाने में संजय राउत के खिलाफ तहरीर दी गई है. भाजपा (BJP)  बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ प्रकल्प की प्रदेश संयोजक डॉ. रचना अग्रवाल ने तहरीर दी है. 
कंगना रानौत और संजय राउत

वाराणसी. महाराष्ट्र के शिवसेना पार्टी के सांसद और प्रवक्ता संजय राउत के  खिलाफ कंगना रानौत पर किए गए टिप्पणी को लेकर वाराणसी में केस दर्ज हो सकता है. वाराणसी के सिगरा थाने में संजय राउत के खिलाफ तहरीर दी गई है. भाजपा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ प्रकल्प की प्रदेश संयोजक डॉ. रचना अग्रवाल ने यह तहरीर संजय राउत के खिलाफ सिगरा थाने में दी है.

थाने में तहरीर दिए जाने को लेकर डॉ. रचना अग्रवाल ने बताया कि संजय राउत संवैधानिक पद पर रहते हुए अभिनेत्री कंगना रानौत पर अभद्र टिप्पणी की है. पुलिस थाने में दी तहरीर में उन्होंने लिखा कि यह बयान किसी भी महिला के मान-सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला है. संजय राउत की इस टिप्पणी के आधार पर  डॉ. रचना अग्रवाल केस दर्ज करने की मांग कर रही है.

वाराणसी के होटल में युवक ने फांसी लगाई, पुलिस को चेहरे पर चिपके मिले नोट-सिक्के

जानकारी के अनुसार इस मामले को लेकर थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार ओझा का कहना है कि मामले की जांच हो रही है. सिगरा थाने से ई-मेल के माध्यम से शिकायत महाराष्ट्र पुलिस को भेजी दी गई है. ई-मेल का जवाब मिलने के बाद इस मामले  में आगे की कार्रवाई की जाएगी.

हाय रे किस्मत, घर से भागे प्रेमी जोड़े में दोनों को निकला कोरोना, पहुंचे अस्पताल

बता दें कि सुशांत सिंह मामले को लेकर पिछले  कुछ दिनों से  अभिनेत्री कंगना रनौत और शिवसेना नेता संजय राउत के बीच में ट्विटर पर ज़ुबानी जंग चल रही है. एक ट्वीट में कंगना रनौत ने महाराष्ट्र पुलिस पर विश्वास नहीं जाताते हुए कहा था कि उन्हें महाराष्ट्र पुलिस पर भरोसा नहीं है. उन्होंने खुद की सुरक्षा के लिए हरियाणा सरकारऔर केंद्र सरकार से गुहार लगाई थी.  इस घटना के बाद शिवसेना के नेता संजय राउत ने कंगना रनोैत को मुंबई वापस न आने के लिए कहा था. साथ ही संजय राउत ने कंगना के लिए हरामखोर शब्द का प्रयोग किया था. इसके बाद दोनों के बीच में जुबानी जंग जारी है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें