रंजीत सुसाइड मामला:एसएसपी ने एसएसआई, चौकी इंचार्ज को किया लाइनहाजिर

Smart News Team, Last updated: 04/08/2020 10:12 PM IST
  • वाराणसी के रंजीत सुसाइड मामले एसएसपी अमित पाठक द्वारा बड़ी कारवाही की गई है। जिसमे थाने के एसएसआई सहित एक चौकी प्रभारी को लाइनहाजिर कर दिया गया। साथ ही एसएसपी अमित पाठक ने विभागीय जांच के आदेश दे दिए है।
एसएसपी अमित पाठक

वाराणसी। पुलिस द्वारा कार्यवाही न करने से नाराज शख्स द्वारा ट्रेन के आगे कूद कर सुसाइड करने के मामले में पुलिस की लापरवाही मिलने पर एसएसपी अमित पाठक द्वारा बड़ी कार्रवाई करते हुए लालपुर-पांडेयपुर थाना के एसएसआई धनंजय कुमार पांडेय सहित अपने दुर्व्यवहार को लेकर चर्चित संकट मोचन चौकी प्रभारी ईश्वर दयाल दुबे को लाइनहाज़िर कर दिया हैं।

रंजीत ने ट्रेन के आगे कूद दे दी थी जान

रविवार 2 अगस्त 2020 को नदेसर -चौकाघाट रेलवे ट्रेक पर एक शख्स ने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी थी। शख्स की शिनाख्त पांडेयपुर क्षेत्र की नई बस्ती इलाके में रहने वाले बिहार के निवासी रंजीत के रूप में की हुई थी। सूचना के बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भेज दिया था। और रंजीत द्वारा सुसाइड करने के कारणों का पता लगाने के लिए तफ्तीश में जुट गई थी।

पुलिस ने लगा पा रही थी लापता पत्नी और दो बच्चो का सुराग, तो रंजीत ने कर लिया सुसाइड

दरअसल रंजीत के सुसाइड करने के पीछे जो वजह सामने आई वह हैरान कर देने वाली हैं। रंजीत की पत्नी और दो बच्चे 30 जून को अचानक लापता हो गए थे। जिसके बाद रंजीत उनकी तलाश कर रहा था। और उसने 18 जुलाई 2020 को थाना लालपुर पांडेपुर में उनकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की लगातार रंजीत थाने के चक्कर लगा रहा था।जिसके बाद पुलिस कार्यवाही ना होते देख रंजीत ने ट्रेन के आगे कूदकर सुसाइड कर लिया।

रंजीत सुसाइड केस में पुलिस की लापरवाही हुई उजागर , दो सब इंस्पेक्टरों सहित चौकी इंचार्ज को किया लाइन हाजिर

वही इस पूरे प्रकरण में एसएसपी अमित पाठक ने लापरवाही बरतने पर एसएसआई धनंजय कुमार पांडेय को लाइन हाजिर कर दिया गया हैं। साथ लगातर फरियादी से दुर्व्यवहार करने के कारण सुर्खियों में रहने वाले संकट मोचन चौकी इंचार्ज को ईश्वर दयाल दुबे को भी लाइनहाजिर कर दिया गया हैं। एसएसपी अमित पाठक ने रंजीत सुसाइड मामले पर विभागीय जांच के आदेश भी दे दिए हैं।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें