पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सुरक्षित नहीं हैं पुलिस जवान, होमगार्ड से लूट

Smart News Team, Last updated: 16/08/2020 03:38 PM IST
  • होमगार्ड जवान का ही पुलिस नहीं दर्ज कर रही मुकदमा, होमगार्ड ने लगाया आरोप. पुलिस चौकी पर शिकायत करने के बाद चौकी प्रभारी ने होमगार्ड को थाने भेजा. थाना प्रभारी ने तहरीर नहीं मिलने की दी सफाई, कहा तहरीर मिलने पर होगी कार्यवाही.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

वाराणसी। पुलिस के लचर व्यवस्था के चलते वाराणसी में पुलिस के जवान खुद भी नहीं सुरक्षित हैं. चोरों के हौसले बुलंद हो चुके हैं जिसके चलते राह चल रहे पुलिस के जवान भी उनका शिकार हो रहे हैं. वाराणसी के रोहनिया थाना क्षेत्र के औढ़े गांव के पास बीती रात बदमाशों ने डीएलडब्लू से अपने घर जा रहे होमगार्ड से मारपीट कर पैसा और मोबाइल छीन लिया. मोबाइल व पैसे की छिनैती की घटना का लिखित शिकायत होमगार्ड ने स्थानीय थाना में की है.

होमगार्ड घनश्याम दुबे ने लिखित शिकायत देते हुए पुलिस को बताया कि 15 अगस्त की रात डीरेका अस्पताल से वे कोरोना ड्यूटी कर वापस अपने घर लौट रहे थे. रात 10:30 बजे औढ़े गांव के पास खड़े 5 बदमाशों ने उन्हें घेर लिया. इसके बाद बदमाशों ने उन्हें मारना पीटना शुरू कर दिया और पैंट की पॉकेट में रख दो मोबाइल व पर्स में रखे 25 सौ रुपए छीन लिए.

इसके बाद होमगार्ड ने इसकी शिकायत अखरी पुलिस चौकी पर 16 अगस्त की सुबह किया. चौकी प्रभारी अखरी गौरव पांडेय ने बताया कि आज दोपहर में घनश्याम दुबे ने लिखित सूचना दी है जिसके बाद उन्हें तहरीर के साथ थाने भेज दिया गया तथा थाने पर ही मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिया गया. होमगार्ड घनश्याम दुबे ने आरोप लगाया कि थाना प्रभारी रोहनिया परशुराम त्रिपाठी मुकदमा दर्ज करने में आनाकानी कर रहे हैं.

वहीं थाना प्रभारी रोहनिया परशुराम त्रिपाठी का कहना है कि अभी हमें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है. यदि हमें तहरीर मिलती है तो घटना की जांच कराई जाएगी. साथ ही दोषियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें