वाराणसी : अब गांवों में भी गंगा आरती कराने की तैयारी, चिन्हित किए गए 44 गांव

Smart News Team, Last updated: 05/02/2021 05:49 PM IST
  • काशी को पर्यटन के नक्शे पर और उभारने के लिए नमामि गंगे ने गंगा किनारे के गांवों में भी गंगा आरती कराने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए नमामि गंगे की ओर से 44 गांव का चेन्नई करण किया गया है. इन गांवों में भी आरती के लिए चबूतरे तो बनेंगे ही घाट भी विकसित किए जाएंगे.
काशी गंगा आरती (फाइल तस्वीर)

वाराणसी : गंगा आरती के जरिए जहां गंगा से जुड़ा होगा वही धार्मिक पर्यटन और रोजगार के अवसर खुलेंगे इसी सोच के तहत नमामि गंगे की ओर से गंगा किनारे गांवों में गंगा आरती कराने की पहल शुरू की है. इसके तहत नमामि गंगे की ओर से गंगा किनारे के 44 गांवों को चिन्हित किया गया है. यह ऐसे गांव हैं जिनका पानी सीधे गंगा में गिरता है. 

गंगा को स्वच्छ बनाने के लिए नमामि गंगे ने गंगा किनारे के 5 किलोमीटर के दायरे में आने वाले दोनों किनारों पर बसे गांव में गंगा आरती कराने का निर्णय लिया है. इसके लिए चिन्हित किए गए गांव में घाट विकसित किए जाएंगे साथ ही गंगा आरती चबूतरा का भी निर्माण कराया जाएगा. 

साहित्य जगत में रामधारी सिंह दिनकर के समतुल्य थे साहित्यकार जानकी बल्लभ शास्त्री

इस संबंध में नमामि गंगे के संयोजक एवं जिला गंगा समिति के सदस्य राजेश शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश सरकार की मंशा है कि जन जन गंगा से धार्मिक रुप से जुड़े.गंगा तट पर रहने वाले जब गंगा से धार्मिक रुप से जुड़ेंगे तो उसमें गंदगी करने से पहले वह एक बार जरूर विचार करेंगे. इसी मंशा के तहत नमामि गंगा यह प्रोजेक्ट लेकर आई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें