PUVVNL हड़तालः वाराणसी के सेवापुरी उपकेन्द्र की बिजली सप्लाई रही ठप, दर्जनों गांव अंधेरे में

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 07:33 PM IST
  • पूर्वांचल विद्युत निगम लिमिटेड के निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने के बाद सोमवार को सेवापुरी उपकेन्द्र में बिजली आपूर्ति बंद रही. जिससे वाराणसी के 13 दर्जन गांवों में बिजली नहीं पहुंची. इससे ग्रामीणों में आक्रोश है.
सोमवार को वाराणसी के सेवापुरी विद्युत उपकेन्द्र से बिजली आपूर्ति बंद रही.

वाराणसी. पूर्वांचल विद्युत निगम लिमिटेड के निजीकरण के विरोध में बिजलीकर्मियों के हड़ताल पर जाने के बाद सोमवार को वाराणसी के गांवों में इसका असर दिखा. जिला प्रशासन के आदेश के बावजूद वाराणसी के सेवापुरी उपकेन्द्र से बिजली की सप्लाई नहीं की जा रही है. जिससे वाराणसी लगभग 13 दर्जन गांवों में बिजली पूरी तरह से ठप हो गई है.

कहा जा रहा है कि उपकेन्द्र पर मौजूद एसएसओ प्रमोद मौर्या ने सभी फीडरों की बिजली सप्लाई बंद की. इस संबंध में एसएसओ प्रमोद मौर्या ने कहा कि अवर अभियंता के आदेश पर विद्युत आपूर्ति बंद की गई है जबकि अवर अभियंता ने कहा कि हमने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है. सप्लाई बंद होने पर ग्रामीणों में आक्रोश है.

PUVVNL निजीकरण विरोध में बिजलीकर्मी आज से हड़ताल पर, आपूर्ति नहीं होगी प्रभावित

पूर्वांचल विद्युत निगम लिमिटेड के निजीकरण के खिलाफ बिजली कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं. जिसके बाद जिला प्रशासन ने आदेश दिया था कि वाराणसी में बिजली सप्लाई नहीं रूकनी चाहिए. इसके लिए वाराणसी के सभी बिजली केन्द्रों पर पुलिस की तैनाती भी की गई. इस आदेश के बावजूद सोमवार को वाराणसी के दर्जनों गांवों में बिजली पूरी तरह से ठप रही.

वाराणसी: इन दो योजनाओं से गालियाँ होंगी स्मार्ट और इमारतें हो जायेंगी ऊँची

कहा जा रहा है कि सेवापुरी बिजली उपकेन्द्र से सुबह से ही बिजली की सप्लाई ठप हो गई. जिसकी वजह से कालका धाम, शकलपुर, कपसेठी और रामेश्वर फीडर के लगभग 13 दर्जनों गांवों में बिजली की सप्लाई नहीं हो पा रही है. वाराणसी के गांवों में बिजली न आने से पीने के पानी की किल्लत हो रही है. सेवापुरी उपकेन्द्र पर विद्युत उपकेन्द्र पर एक दरोगा और तीन सिपाही तैनात किए गए हैं. आपको बता दें कि पूर्वांचल विद्युत निगम लिमिटेड के निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मचारी रविवार को रात 12 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें