वाराणसी: अतुल्य भारत का पोस्टर बना वनारस का रत्नेश्वर मंदिर, जानें खासियत

Smart News Team, Last updated: 28/11/2020 08:44 AM IST
  • इंक्रेडिबल इंडिया ने काशी के रत्नेश्वर मंदिर को अपना पोस्टर बनाया है. अतुल्य भारत ने मंदिर की तारीख करते हुए कहा कि यह शिल्प और वास्तुकला का अच्छा उदहारण है. बता दें कि मंदिर लगभग 9 डिग्री कोण पर झुका है.
अतुल्य भारत का पोस्टर बना रत्नेश्वर मंदिर

वाराणसी: भारत सरकार के 'अतुल्य भारत' अभियान के तहत लोगों को भारत की नई जगह से परिचित कराया जाता है. जिसमें उस क्षेत्र विशेष की उपलब्धियो का जिक्र किया जाता है. शुक्रवार को इंक्रेडिबल इंडिया ने अपने ट्विटर अकांउट से वाराणसी के रत्नेश्वर मंदिर बारे में ट्वीट किया है. ट्वीट में इंक्रेडिबल इंडिया ने मंदिर की तारीफ करते हुए, 19वीं शताब्दी की वास्तुकला के बारे में लोगों के परिचित कराया है.

इंक्रेडिबल इंडिया ने ट्वीट किया "रत्नेश्वर मंदिर, वाराणसी के सबसे चमत्कारी मंदिरों में से एक है। हर गुजरता दिन आर्क विज्ञान विकसित कर रहा है, फिर भी जो अभी भी रहस्यमय बना हुआ है वह 19 वीं शताब्दी में कैसे इतना मजबूत था और भारतीय कारीगर की कल्पना से पहले भी उकेरा गया था!" वही अतुल्य भारत ने मंदिर की तारीफ करते हुए कहा "दुनिया ने अजूबों को भी कम कर दिया है, तब भी भारत की अपनी विशिष्टता है जिसे काशी करवट मंदिर कहा जाता है. ज्ञान से परिपूर्ण और वर्षों बाद भी भक्ति से मजबूत है, यह कभी भी एक नागरा शिखर (मंदिर की नोक) और मंडप (स्तंभित हॉल) के साथ अपने डिजाइन के साथ आगंतुकों को विस्मित करने में विफल नहीं होता है."

बता दें कि रत्नेश्वर मंदिर वनारस के महाश्मशान मणिकर्णिका घाट के ठीक बगल में स्थित है. मंदिर लगभग 9 डिग्री कोण पर झुका हुआ है. मान्यता है कि मंदिर के दोषपूर्ण होने के कारण यहां पूजा-अर्चना नहीं होती. कुछ साल पहले मंदिर पर आकाशीय बिजली गिरी थी. मगर बनावट के कारण मंदिर सैलानियों के हमेशा आकर्षण का केंद्र रहा है. रत्नेश्वर मंदिर साल के छह महीने पानी में डूबा रहता है. उस समय मंदिर का सिर्फ शिखर ही नजर आता है.

काशी शिल्पकार की चाहत-बनारस दौरे पर PM मोदी उसके बुने अंगवस्त्र को पहनें

CM योगी की UP पुलिस को हिदायत, गाइडलाइन के नाम पर शादी में तंग करने पर कार्रवाई

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें