वाराणसी में नगर निगम सदन की बैठक में 675.59 करोड़ रुपए के रिवाइज़ड बजट मंजूर

Smart News Team, Last updated: Thu, 28th Jan 2021, 8:15 PM IST
  • नगर निगम कार्यालय में दोपहर 12 बजे से शुरू हुई सदन की बैठक साढ़े तीन घंटे तक चली. इसमें पार्षदों के बीच काफी देर तक भ्रष्टाचार के आरोपों का दौर चला और हंगामा भी हुआ. कई मदों में आय कम दिखाने पर पार्षदों ने विरोध भी जताया.
वाराणसी नगर निगम.( फाइल फोटो )

वाराणसी. बुधवार को वाराणसी नगर निगम के सदन की बैठक हुई. इस बैठक में गहमागहमी और भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच पार्षदों ने चर्चा करने के बाद 675.59 करोड़ रुपए के पुनरीक्षित बजट का अनुमोदन कर किया गया. नगर निगम कार्यालय में पार्षदों के परिचय के बाद दोपहर 12:00 बजे सदन की बैठक शुरू हुई. पार्षदों के बीच चर्चा का दौर शुरू हुआ तो गृह कर व जलकल वसूली के साथ ही नगर निगम के वाहनों पर होने वाले खर्च को लेकर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाए गए. इसको लेकर बैठक में जमकर हंगामा हुआ. पार्षद अफजाल अंसारी ने गृह कर को लेकर एक भ्रष्टाचार के प्रकरण को सदन में रखा तो नगर आयुक्त गौरांग राठी ने जवाब में कहा कि ऐसे मामले को संज्ञान में ले लिया गया है. जांच कराकर दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी. पूरे प्रकरण में सुविधा शुल्क देने वाला भी कार्रवाई की जद में आएगा. सदन की बैठक में जलकल के आय व्यय को लेकर चर्चा कराने की मांग उठी लेकिन गहमागहमी के दौर को देखते हुए पार्षद सीता शर्मा की इस मांग को ठुकरा दिया गया. 

बैठक में कई मदों में आए कम दिखाने पर पार्षदों ने अपना विरोध भी प्रकट किया. नगर निगम की ओर से आयात कर से आय पर चर्चा हुई तो पार्षदों का गुस्सा अधिकारियों पर फूट गया. भाजपा पार्षद शंकर साहू ने जी आई सर्वे को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि भवनों का कर मूल्यांकन टैक्स इंस्पेक्टर की बजाय बेलदार वसूल कर रहे हैं. सिकरौल के पार्षद दिनेश सिंह ने आरोप लगाया कि अधिकारी केवल नोटिस देते हैं. कार्रवाई करने में आनाकानी करते हैं. 

वाराणसी : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर शुरू हुआ बूथों का सत्यापन

बैठक में बीएचयू पर गृह कर के रूप में बड़ी धनराशि बकाया होने पर पार्षदों ने हंगामा किया. पार्षदों का कहना था कि वर्षों से बकाया वसूलने पर नगर निगम की मनसा सवालों के घेरे में है. कहां की अगर बीएचयू से 33 करोड़ रुपए का बकाया वसूल हो जाता तो इससे नगर निगम की आय बढ़ती. एकमुश्त रकम मिलने से विकास के कार्यों को गति मिलती. साढ़े 3 घंटे चली सदन की बैठक के अंत में नगर आयुक्त गौरव रांची की ओर से साल 2020-21 के लिए 675.59 करोड़ रुपए का पुनरीक्षित बजट प्रस्तुत किया गया जिसे चर्चा के बाद अनुमोदित कर दिया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें