रुद्राक्ष सेंटर तैयार, CM योगी का 15 दिनों में दो बार निरीक्षण, जानें विशेषताएं

Smart News Team, Last updated: Tue, 6th Jul 2021, 12:54 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को वाराणसी नगर निगम के पास में बने रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर पहुंचे और सेंटर का निरीक्षण किया. शिवलिंग के आकार में बने रुद्राक्ष पर 186 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. 2015 में नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने अपने वाराणसी दौरे के दौरान सेंटर की नींव रखी थी
उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ ने 2 महीने में चार बार वाराणसी का दौरा कर चुके हैं. (फाइल फोटो)

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को वाराणसी नगर निगम के पास में बने रुद्राक्ष कंवेंशन सेंटर पहुंचे. इस दौरान सीएम योगी ने भारत और जापान की दोस्ती के प्रतीक अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर रुद्राक्ष का निरीक्षण भी किया. पिछले 15 दिनों में सीएम का रुद्राक्ष में यह दूसरा दौरा है. सीएम ने सेंटर में लगी कुर्सी पर बैठकर उसको परखा और अधिकारियों से परिसर की पूरी जानकारी ली. आपको बता दे कि शिवलिंग के आकार में बने रुद्राक्ष पर 186 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं.

गौरतलब है कि रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की नींव 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अपने वाराणसी दौरे के दौरान रखी थी. विशेष रुप से डिजाइन इस सेंटर में एक साथ 1200 लोगों के बैठने की व्यवस्था है. आधुनिक सुविधाओं से लैस इस सेंटर को लोगों की संख्या के हिसाब से दो भागों में भी बांटा जा सकता है. इस सेंटर में बड़े सेंट्रल हॉल के अलावा 150 लोगों की क्षमता वाला एक मीटिंग हॉल भी बनाया गया है. इसके साथ ही एक वीआईपी कक्ष और चार ग्रीन रुम भी तैयार किये गये हैं.

PM मोदी की परियोजनाओं की तैयारियों का जायजा लेने वाराणसी पहुंचे सीएम योगी

दिव्यांगजनों के लिए सेंटर परिसर को बेहद सुविधाजनक बनाया गया है. सेंटर दोनों देशों की सांस्कृति और आधुनिक समागम के प्रमुख केंद्र के रुप में तैयार किया गया है. तीन एकड़ में बने सेंटर परिसर में जापानी शैली का गार्डन और लैंडस्केपिंग भी की गई है. सेंटर में भारत और जापान की वास्तुशैली भी दिखती है. सेंटर के बाहरी हिस्से में एल्युमिनियम के 108 सांकेतिक रुद्राक्ष लगे हैं. बेसमेंट में 120 गाड़ियों की पार्किंग की सुविधा है. इसके साथ पूरे परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. सेंटर में सौर ऊर्जा का भी प्रबंध किया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें