वाराणसी: संस्कृत विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में NSUI ने सभी सीटों पर ABVP को हराया

Smart News Team, Last updated: Sun, 11th Apr 2021, 6:24 PM IST
  • संपूर्णानंद संस्कृत संस्कृत विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई)का सभी पदों पर कब्जा. पिछले साल भी एनएसयूआई का ही वर्चस्व था.
NSUI के जीते हुए प्रत्याशी

वाराणसी: संपूर्णानंद संस्कृत संस्कृत विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआई)का सभी पदों पर कब्जा. पिछले साल भी एनएसयूआई का ही वर्चस्व था. एनएसयूआई के पैनल से अध्यक्ष पद पर कृष्णमोहन शुक्ला ने 442 वोट पाकर  एबीवीपी के अजय दुबे (306) को 136 वोट से हराया, उपाध्यक्ष पद पर अजीत चौबे ने 411 वोट पाकर एबीवीपी के चंद्रमौलि तिवारी (343) को 68 वोटों से हराया तो वहीं महामंत्री पद पर शिवम चौबे ने ने 485 वोट हासिल कर गौरीशंकर गंगेले (266) को 219 वोटों से हराया और पुस्तकालय मंत्री पद पर आशुतोष मिश्र 415 वोट हासिल कर एबीवीपी के विवेकानंद पांडेय (338) को 77 वोटों से हराया.  संस्कृत साहित्य संकाय से अनुराग शर्मा ने बृजेश कुमार दुबे श्रमण विद्या से प्रियांशु मिश्रा ने उज्जवल को हराया. 

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान रविवार को संपन्न हो गया. कोरोना संक्रमण के कारण विश्वविद्यालय बंद होने से चुनाव की चहल-पहल नदारद रही. छात्रों के नहीं होने के कारण परिसर में सन्नाटा पसरा रहा. वोटिंग परसेंटेज भी पहले के मुकाबले कम रहा.

सीएम योगी ने दिया आदेश , UP में 1 से 12वीं तक के सभी स्कूल 30 अप्रैल तक बंद

छात्रसंघ चुनाव के लिए प्रत्याशियों ने प्रचार के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया था. शुक्रवार को चुनाव प्रचार थम जाने के बाद प्रत्याशी फोन और सोशल मीडिया के जरिए मतदाताओं से संपर्क में जुटे थे.

एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन का कहना है कि यह जीत तमाम छात्रों की जीत है जिन्होंने एनएसयूआई के उम्मीदवारों पर विश्वास जताया तथा यह एबीवीपी की हार नही है बल्कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हार है. क्योकि यह मोदीजी का गढ़. एनएसयूआई ने मोदीजी से उनका किला छीना है जल्द ही पूरा यूपी छीनेगे.

एनएसयूआई के राष्ट्रीय सचिव एवं यूपी प्रभारी अविनाश यादव का कहना है कि एबीवीपी ने शनिवार को  ही एनएसयूआई को हराने के लिए हिंसा का सहारा लिया लेकिन संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के छात्रों ने एबीवीपी की हिंसा की राजनीति को नकार दिया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें