राफेल की पहली महिला फ्लाईंग लेफ्टिनेंट बनीं वाराणसी की बेटी शिवांगी सिंह

Smart News Team, Last updated: 23/09/2020 07:29 PM IST
शिवांगी साल 2015 में एयरफोर्स में चयनित हुई थी और 2017 में उन्होंने फाइटर प्लेन उड़ाने शुरु कर दिया था. राफेल के स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल से पहले शिवांगी एक महीने का प्रशिक्षण पास  किया जिसके बाद से शिवांगी को उपलब्धि प्राप्त हुई.
शिवांगी सिंह (फाइल फोटो)

वाराणसी. वाराणसी की शिवांगी सिंह फाइटर विमान राफेल के स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल होने वाली इकलौती व पहली महिला फ्लाइंग लेफ्टिनेंट बनी हैं. जिसे लेकर शिवांगी के घर वाले तो खुश है ही साथ में पूरा शहर गर्व महसूस कर रहा है. शिवांगी साल 2015 में एयरफोर्स में चयनित हुई थी और 2017 में उन्होंने फाइटर प्लेन उड़ाने शुरु कर दिया था. शिवांगी पिछले तीन साल की कड़ी मेहनत के चलते राफेल के स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल हुई है. राफेल के स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल से पहले शिवांगी एक महीने का प्रशिक्षण पास  किया जिसके बाद से शिवांगी को उपलब्धि प्राप्त हुई.  

शिवांगी के पिता कुमारेश्वर सिंह टूर एंड ट्रैवेल का काम करते हैं और बेटी की इतनी बड़ी उपलब्धि पर काफी खुश हैं. उनसे बात करने पर उन्होंने ने बताया कि एक दिन पहले ही बेटी से बात हुई और राफेल के स्क्वाड्रन गोल्डन एरो में शामिल होने की जानकारी मिली है. हमें हमारी बेटी नाज है और वह अन्य बेटियों के लिए एक नजीर बनी हैं. हमारे घर के लोग खुशियों से फूले नहीं समा रहे हैं. घर पर मां सीमा सिंह, भाई मयंक, बड़े पिता राजेश्वर सिंह, चचेरे भाई शुभांशु, हिमांशु पूरा परिवार काफी खुश है और घर में हलवा बांटा जा रहा है.

वाराणसी: BHU छात्र और पुलिस में झड़प, शांति भंग करने पर 2 हिरासत में

शिवांगी सिंह इससे पहले भी साल 2017 में भी इतिहास रच चुकी हैं जब वह वायु सेना में फाइटर विमान उड़ाने वाली पांच महिला पायलटों में चुनी गई थी .राफेल को हाल ही में 29 जुलाई को भारत में आए थे और 10 सितंबर को भारतीय वायु सेना में अधिकारिक रूप से इसे शामिल किया गया है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें